छत्तीसगढ़

कोरबा : पेंशन, मजूदरी, स्काॅलरशिप से लेकर दूसरे लेनदेन के लिए ‘बैंक तुंहर दुआर‘

89556 हितग्राही, लगभग 12 करोड़ रूपये का लेनदेन, 148 बैंक सखियाॅं और पे-प्वाइंट

  • कोरबा जिले के ग्रामीण इलाकों में घर बैठे मिल रही बैंकिंग सुविधायें

कोरबा 25 दिसम्बर 2020 : कोरबा जिले में सुदुर वनांचलों सहित ग्रामीण इलाकों में अब बैंक भी बैंक सखियों के माध्यम से लोगों के घर तक पहुंच रहा है। जिले में गांव-गांव तक बैंकिंग सेवाओं को पहुॅंचाने के लिये 148 बैंक और पे-प्वाइंट सखियों द्वारा लगातार काम किया जा रहा है।

घर-घर पहुॅंचकर लेपटाॅप या छोटी सी हाथ से चलने वाली कियोस्क टाइप मशीन से यह बैंक सखियाॅं किसी महिला को वृद्धावस्था पेंशन की राशि दे रही हैं, तो किसी ग्रामीण को मनरेगा की मजदूरी का भुगतान भी कर रही हैं। बैंकों में जमा ग्रामीणों के रूपये उनके घर में पहुॅंचकर उन्हें आसानी से मिल जा रहे हैं। कोरबा जिले में वर्तमान में पाॅंच बैंकों की 148 बैंक सखियाॅं ग्रामीणों को नगद राशि निकालने, जमा करने, एक खाते से दूसरे खाते में ट्रांसफर करने जैसी सेवायें घर पहुॅंचकर दे रही हैं।

इन बैंक सखियांे द्वारा ग्रामीण क्षेत्रांे में लोगों के नये खाते खोलने और उनके खाते में बचत राशि की जानकारी भी तत्काल दी जा रही है। कोरोना काल में भी जिले में यह व्यवस्था पूरी तरह सक्रिय रही है। अब तक इन बैंक सखियांे द्वारा 89456 लोगों के बैंक खातों का सफलतापूर्वक संचालन किया जा रहा है। जिनसे अब तक 11 करोड़ 72 लाख़ रूपये का लेनदेन हो चुका है।

86 पे-प्वाइंट पर भी लेनदेन

किसी बीमार के ईलाज के लिये तत्काल राशि उपलब्ध कराना हो तो बैंक सखी अपने लेपटाॅप और माॅरफो डिवाईस या पाॅस मशीन लेकर सीधे अस्पताल में भर्ती मरीज तक पहुॅंच जाती है और उसके अंगूठे के निशान से ही जरूरत की राषि उसके खाते से निकालकर तत्काल उपलब्ध करा देती है। जिले में वर्तमान में छत्तीसगढ़ राज्य ग्रामीण बैंक की 52, भारतीय स्टेट बैंक की पांच, पंजाब नेशनल बैंक की पांच और यूनियन बैंक की एक बैंक सखियाॅं कार्यरत् हैं। इसके अलावा 86 पे-प्वाइंट पर भी लेनदेन की सुविधा हैै।

हर एक बैंक सखी का कार्यक्षेत्र तीन से पाॅंच ग्राम पंचायतों को मिलाकर निर्धारित किया गया है। ग्राम पंचायतों में निर्धारित जगहों पर भी उपस्थित रहकर यह बैंक सखियाॅं लोगों को मनरेगा मजदूरी भुगतान, छात्रवृत्ति भुगतान, सामाजिक सुरक्षा पेंशनों का वितरण और अपने बैंक खातों में जमा रूपयों के लेनदेन-नगद निकासी-जमा की सुविधा उपलब्ध करा रही हैं।

बैंक सखी

विकासखण्ड करतला के ग्राम पंचायत कलगामार में बैंक सखी के रूप में  शिवकुमारी राठिया कार्यरत् हैं। शिव-शक्ति महिला स्व सहायता समूह की सदस्य राठिया ओरिएन्टल बैंक आॅफ काॅमर्स की बैंक सखी हैं। वे सितम्बर 2019 से बैंक सखी के रूप में काम कर रही हैं और कलगामार सहित आसपास की ग्राम पंचायतों के लगभग डेढ़ हजार बैंक खातों की देखरेख और उनसे रूपयों का लेनदेन की पूरी जिम्मेदारी ईमानदारी से निभा रही हैं।

राठिया बताती हैं कि उन्होंने अभी तक एक करोड़ रूपयों से अधिक का लेनदेन बैंक सखी के रूप में कर दिया है। वे बताती हैं कि बुजुर्ग, दिव्यंाग, बीमार, विद्यार्थियों सहित जरूरतमंद लोगों को समय पर उनकी बैंकों में जमा राशि घर पहुॅंचाकर मिल जाने से लोग उन्हें बहुत धन्यवाद और दुआयें देते हैं। इससे उन्हें हर महीने चार हजार रूपये का कमीशन बैंक की तरफ से मिल जाता है और डेढ़ हजार रूपये का मानदेय बिहान योजना से मिलता है।

राठिया बताती हैं कि हर महीने निश्चित आमदनी से अपने और अपने परिवार का भरण-पोषण करने में उन्हें बहुत सहुलियत मिल रही है। बच्चों की पढ़ाई से लेकर घर में नई वस्तुयें खरीदने तक की योजना अब वे बिना किसी चिन्ता के बनाकर पूरी कर भी लेती हैं।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button