कोरिया : बच्चों को डूबता देख मां ने लगा दी नदी में छलांग, तीनों की मौत

बच्चे अगर मुसीबत में हों तो मां कुछ भी कर गुजरने में तनिक भी देर नहीं करतीं, भले की उसमें उनकी जान क्यों ने चली जाए। ऐसे ही एक वाकये में आज नदी में डूब रहे बच्चों को बचाने के लिए मां ने अपनी जान तक गंवा दी

कोरिया। बच्चे अगर मुसीबत में हों तो मां कुछ भी कर गुजरने में तनिक भी देर नहीं करतीं, भले की उसमें उनकी जान क्यों ने चली जाए। ऐसे ही एक वाकये में आज नदी में डूब रहे बच्चों को बचाने के लिए मां ने अपनी जान तक गंवा दी। दिल दहला देने वाली ये घटना कोरिया जिले के मनेंद्रगढ़ की है।

जानकारी के अनुसार रविवार दोपहर चैनपुर गांव के विनोद बाघ की पत्नी सुनीता अपने 12 साल बेटे विकास 9 वर्षीय बेटी बबीता व अपने परिजनों के साथ सेमरिया डैम में नहाने गई थी। मां इधर कपड़े धोने लगी और उधर भाई-बहन नहाने लगे। नहाने के लिए बनी सीढ़ियों से विकास व बबीता नहाते-नहाते कब गहराई में चले गए पता ही नहीं चला। दोनों डूबने लगे तो अपनी मां को पुकार लगाई।
0-मासूमों को बचाने के लिए आखिरी सांस तक जूझती रही मां की ममता

बच्चों को डूबता देखकर मां लोगों से बचाने की गुहार लगाने लगी लेकिन, किसी को आगे बढ़ता नहीं देख खुद ही नाले में छलांग लगा दी। और आखिरी सांस तक मां अपने दोनों बच्चों को निकालने की कोशिश करती रही, लेकिन बच्चे पूरी तरह से डूब चुके थे। हालांकि मां चाहती तो खुद बच सकती थी लेकिन, वो अंतिम सांस के बीच भी डुबकी लगाकर बच्चे को तलाशती रही और फिर वो भी डूब गई। इसी बीच मौजूद एक महिला ने सुनीता को बचाने की कोशिश की लेकिन नहीं बचा सकी।

घटना की सूचना में गांववाले मौके पर दौड़े-दौड़े पहुंच लेकिन, तब तक सुनीता, विकास व बबीता मौत से हार चुके थे। इधर मौके पर पहुंची पुलिस ने गोताखोरों की मदद से तीनों शव निकाला। शव का पंचनामा कर परिजनों को सौंप दिया गया है।

advt
Back to top button