छत्तीसगढ़

के पी स्कूल बंधापाली बना लूट की दुकान,शिक्षा के नाम पर हो रहा मनमानी वसूली

हिमालय मुखर्जी ब्यूरो चीफ रायगढ़/प्रकाश तिवारी संवाददाता सारंगढ़

सारंगढ़। विकासखंड सारंगढ़ के अन्तर्गत आने वाले ग्राम बंधापाली के निजी स्कूल के पी हायर सेकेण्डरी स्कूल जहां बुक,कॉपी,ड्रेस से लेकर पेन के नीब तक का धंधा किया जा रहा है,जहां शासन द्वारा निशुल्क पाठयपुस्तक निजी संस्थाओं को दिया जाता है,उस पुस्तक को रद्दी के भाव बेचकर,अपने हिसाब से निजी पब्लिकेशन द्वारा मुद्रित पुस्तक से पालकों से मोटी रकम वसूली कर रहे है,कॉपी में खुद का लोगो मुद्रित करवाकर 20 रुपए की कॉपी को 40 रुपए तक बेचा जा रहा है,ये सब किसके संरक्षण में हो रहा है,सभी संदेहास्पद है, एक तरफ जहां सार्वजनिक रंगमंच को निजी भवन का बना लिया, वहीं इस स्कूल द्वारा सरकारी जमीन को हड़पा जा रहा है,वहीं इन्हे हर शिक्षा केन्द्र का मान्यता पलक झपकते ही मिल जाता है।

क्या सरकार, प्रशासन इस प्रकार के बात से अवगत नहीं है,निरीक्षण करते समय क्या निरीक्षण होता है,या फिर उच्च अधिकारी इस प्रकार कालाबाजारी में सहयोगी है,सब समझ से परे है।इस प्रकार की मनमानी को उच्चाधिकारियों को संज्ञान में लेना चाहिए,जिससे कि शिक्षा नीति का पूर्ण रूप से पालन हो।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button