के.आर. टेक्निकल कॉलेज अंबिकापुर में आज एड्स दिवस के अवसर आयोजित किया गया जागरूकता कार्यक्रम

 

अम्बिकापुर: के.आर. टेक्निकल कॉलेज अंबिकापुर में आज एड्स दिवस के अवसर पर जिला स्वास्थ्य समिति अंबिकापुर के जिला एड्स नियंत्रण समिति एवं राष्ट्रीय सेवा योजना के संयुक्त तत्वाधान में एड्स जागरूकता पर कार्यक्रम आयोजित किया गया। उक्त कार्यक्रम में बतौर मुख्य वक्ता एड्स काउंसलर मेडिकल कॉलेज अम्बिकापुर श्रीमती सुमित्रा बुनकर उपस्थित थी। प्राचार्य डॉ रितेश वर्मा ने अपने स्वागत उद्बोधन में बताया कि के. आर. टेक्निकल कॉलेज अंबिकापुर में प्रतिवर्ष एड्स दिवस के अवसर पर विभिन्न जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। इस अवसर पर इस सत्र छात्र-छात्राओं के लिए जागरूकता व्याख्यान का आयोजन किया गया।

मुख्य वक्ता एड्स काउंसलर श्रीमती सुमित्रा बुनकर ने बताया कि एड्स जैसी बीमारियों से घबराने की जरूरत नहीं है बल्कि इसके प्रति हमें जागरुक एवं सजग रहना होगा । उन्होंने बताया कि किन किन परिस्थितियों एवं स्थितियों में हमें एड्स जैसी बीमारी हो सकती है साथ ही उन्होंने यह बीमारी ना होने के लिए हमें किन बिंदुओं को ध्यान में रखना चाहिए यह भी बताया। उन्होंने छात्र छात्राओं को जागरूक करते हुए चार ऐसे महत्वपूर्ण बिंदु बताएं जिनका ध्यान रखते हुए हम एचआईवी से संक्रमित होने से बच सकते हैं । उन्होंने इस दौरान एचआईवी पीड़ित मरीजों से सामान्य व्यवहार करने का आग्रह किया एवं उनके साथ किस तरह से हमें दैनिक जीवन में रहना चाहिए यह भी बताया एवं ऐसे कारणों का भी उल्लेख किया जिनके माध्यम से हम एचआईवी से संक्रमित हो सकते हैं । इस दौरान उन्होंने छात्र छात्राओं के सवालों का जवाब भी दिया। उन्होंने बताया की एचआइवी पीडि़त व्यक्तियों को जिला अस्पताल स्थित आइसीटीसी एवं सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में एआरटी सेंटर से जोड़कर निःशुल्क दवाईयां प्रदान कर जांच की सुविधा उपलब्ध कराई जाती है। एच.आई.वी. एड्स से ग्रसित लोगों के लिए सारी सुविधाएं निःशुल्क प्रदान की जा रही है।

इससे पूर्व प्राचार्य डॉ रितेश वर्मा ने एड्स एवं एच.आई.वी. का संक्षिप्त विवरण देते हुए आज के दिन विशेष पर प्रकाश डाला एवं जागरूकता के संदर्भ में युवाओं की भूमिका को भी समझाया। उन्होंने कहा की एच.आई.वी. एड्स के संक्रमण के प्रति हम सभी को जागरूक होने की आवश्यकता है। एच.आई.वी. एड्स से ग्रसित मरीजों के साथ सामाजिक भेदभाव को दूर करने की जरूरत है। उन्होंने कहा जानकारी ही एच.आइ.वी. एड्स का बचाव है। ऐसे में सभी को अपने आस-पड़ोस में लोगों को एच.आइ.वी. एड्स के प्रति जागरूक करना चाहिए।

इस दौरान राष्ट्रीय सेवा योजना के कार्यक्रम अधिकारी विनितेश गुप्त ने छात्र-छात्राओं को आज के दिन लोगों को जागरूक करने हेतु प्रेरित किया एवं उन्हें सजग समाज का प्रहरी कहते हुए जागरूकता से संबंधित संदेशों को समाज के हर वर्ग तक पहुंचाने का आग्रह किया।

अंत में आगंतुक समस्त अतिथियों एवं छात्र-छात्राओं का आभार महाविद्यालय की डायरेक्टर श्रीमती रीनू जैन ने किया एवं एड्स काउंसलर श्रीमती सुमित्रा बुनकर को महाविद्यालय परिवार की ओर से स्वामी विवेकानंद जी के जीवन दर्शन से संबंधित पुस्तक भेंट कर आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा की ये बीमारी ऐसी है जिस पर कोई आज भी खुलकर बात करने के लिए तैयार नहीं है। इस बीमारी पर किसी को संकोच नहीं करना चाहिए और खुलकर बात करने से ही इस बीमारी पर जीत हासिल की जा सकती है। इस दौरान महाविद्यालय के समस्त विभाग के विभागाध्यक्ष समस्त प्राध्यापक गण एवं भारी संख्या में छात्र-छात्राएं उपस्थित थे।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button