पूर्व ऑफिसर कुलभूषण जाधव की जान को खतरा

भारतीय नौसेना के पूर्व ऑफिसर कूलभूषण जाधव पर पाकिस्तानी संस्था आईएसपीआर ने बड़ा दावा किया है. इंटर सर्विस पब्लिक रिलेशंस (ISPR) के मेजर जनरल आसिफ गफूर ने कहा है कि कूलभूषण जाधव की दया याचिका अपने अंतिम चरण में है. जल्द ही पाकिस्तान की जनता को गुड न्यूज दिया जाएगा.

बता दें कि भारतीय नौसेना के 46 साल के सेवानिवृत्त अधिकारी जाधव को पाकिस्तान की मिलिट्री कोर्ट ने पाकिस्तान के खिलाफ कथित रुप से जासूसी और विध्वंसकारी गतिविधियों में संलिप्तता के लिए अप्रैल में मौत की सजा सुनाई थी.

सीमा पार 

सीमा पार से होने वाली फायरिंग पर आसिफ गफूर ने कहा कि भारत की तरह हम कभी भी फायरिंग नहीं कर सकते, क्योंकि सीमा पार हमारे कश्मीरी भाई हैं. इसलिए सीमा पार जब भी कुछ होगा तो सैनिकों और प्रतिष्ठानों को निशाना बनाया जाएगा. गफूर ने कहा, ‘युद्ध किसी समस्या का हल नहीं है.

पाकिस्तानी सेना के प्रवक्ता ने गुरुवार को कहा था कि आतंकियों का इस्तेमाल करते हुए एक विदेशी एजेंसी पाकिस्तान में आतंकी हमलों को अंजाम देने की साजिश रच रही है. जनरल आसिफ गफूर ने रावलपिंडी में कहा कि पूर्व में हमारी सीमा भारत के साथ लगी हुई है, लेकिन भारतीयों के अनुचित रवैये के चलते पाकिस्तान की सीमा सुरक्षित नहीं है.

चुकानी होगी भारत को कीमत

पाकिस्तान के सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा रविवार को काबुल के दौरे पर थे. इसके बाद आसिफ गफूर ने मीडिया को संबोधित किया. गफूर ने कहा, ‘2017 में सबसे ज्यादा सीजफायर की घटना हुई हैं. एलओसी पर 222 नागरिक मारे गए हैं. लेकिन भारत को इसकी कीमत चुकानी पड़ी है, अगर भारत संयमित व्यवहार नहीं करता है, तो हम जवाब देते रहेंगे.

सजा के अमल पर रोक ICJ ने लगाई

18 मई को इस मामले की सुनवाई करते हुए अंतरराष्ट्रीय न्याय अदालत की 10 सदस्यीय पीठ ने जाधव की फांसी की सजा के अमल पर रोक लगा दी थी

 

पाक विदेश मंत्री ख्वाजा मोहम्मद आसिफ ने न्यूयॉर्क में लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि पेशावर में एपीएस (आर्मी पब्लिक स्कूल) में बच्चों की हत्या करने वाला आतंकवादी अफगानिस्तान प्रशासन के हिरासत में है. राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) ने मुझसे कहा कि हम उस आतंकवादी से आपके पास मौजूद आतंकवादी जो कि कुलभूषण जाधव है,

Back to top button