भाजपा की रथयात्रा में हिस्सा लेने की अनुमति से कुमार सानू ने किया इंकार

सानू वर्ष 2012 में भाजपा में शामिल हुए थे

कोलकाता:

पश्चिम बंगाल में भाजपा द्वारा आयोजित रथयात्रा कार्यक्रम में हिस्सा लेने की अनुमति से सिद्ध पार्श्वगायक कुमार सानू ने इंकार कर दिया है . उनका कहना है कि यह उनके खिलाफ सजिश है क्योंकि कोलकाता के लोग उसे प्यार करते हैं।

कुमार सानू वर्ष 2012 में भाजपा में शामिल हुए थे. उन्होंने कहा, “पार्टी के लोगों ने कोई सूची बनाई है, लेकिन मेरा नाम शामिल करने से पहले मुझे सूचित करना चाहिए था. इसलिए मुझे लगता है कि यह एक साजिश है. लेकिन मैं इसमें नहीं आ रहा..यह संभव नहीं है, क्योंकि इस बारे में मुझसे कोई चर्चा नहीं हुई है”.

भाजपा सात, नौ और 14 दिसंबर को क्रमश: उत्तर बंगाल के कूच बिहार, दक्षिणी 24 परगना जिले के गंगासागर और बीरभूम जिले के तारापीठ से तीन रथयात्राएं आयोजित कर रही है.

सानू ने कहा कि वह अब भाजपा के सदस्य नहीं हैं. उन्होंने कहा, “मैं भाजपा से 2012 में इसलिए जुड़ा, क्योंकि मुझे लगा था कि मेरे संगीत विद्यालय को कुछ मदद मिलेगी, लेकिन अनाथ बच्चों के लिए विभिन्न शहरों में संचालित मेरे विद्यालय को कोई मदद नहीं मिली, इसलिए मैंने पार्टी छोड़ दी थी”.

कुमार सानू ने कहा कि उन्होंने कई मौकों पर स्पष्ट कर दिया है कि वह किसी राजनीतिक पार्टी से संबद्ध नहीं हैं, और वह सिर्फ संगीत के बारे में सोचते हैं. दूसरी तरफ, भाजपा की राज्य इकाई के महासचिव सायंतन बसु ने कहा कि पार्टी चाहती थी कि वह कार्यक्रम में आएं, क्योंकि वह अभी भी पार्टी के सदस्य हैं.

बसु ने कहा, “हमें नहीं पता कि वह क्यों नहीं आ रहे हैं या अपनी सदस्यता से इनकार क्यों कर रहे हैं और वह किसके दबाव में हैं. लेकिन हम चाहते थे कि वह आएं, इसलिए हमने इसके लिए केंद्र से संपर्क किया था”.

Back to top button