कुरूदडीह जमीन मामला : कोर्ट का पीसीसी चीफ के पिता की जमीन मानने से इंकार

पीसीसी चीफ के परिवार की मुसीबतें बढ़ी

रायपुर:कुरूदडीह जमीन मामले में पीसीसी चीफ भूपेश बघेल के पिता नंदकुमार पटेल को रायपुर कोर्ट से झटका लगा है. रायपुर कोर्ट ने कुरूदडीह की 20 एकड़ जमीन को नंदकुमार बघेल की जमीन मानने से इंकार कर दिया.कोर्ट ने तर्क दिया कि संबंधित जमीन को लेकर नंदकुमार बघेल ने एक भी साक्ष्य प्रस्तुत नहीं किया.भूपेश बघेल के परिवार पर कुरूदडीह में 20 एकड़ सरकारी जमीन पर कब्जा करने का आरोप है।

कुरूदडीह में नंदकुमार पटेल के पिता स्वर्गीय खोमनाथ पटेल पटवारी हल्का नंबर 64 के मालगुजार थे. लेकिन 1973 में खोमनाथ बघेल की मौत के बाद जमीन पर नंदकुमार ही खेती करते आ रहे हैं. नंदकुमार के मुताबिक चकबंदी के दौरान गड़बड़ी के कारण उनका नाम रिकॉर्ड से गायब हो गया.

वर्तमान में आज भी उस जमीन का नंदकुमार ही इस्तेमाल कर रहे है.लिहाजा नंदकुमार ने इस जमीन को पैतृक संपत्ति बताते हुए कोर्ट में रिकॉर्ड को सुधार कर अपने नाम करवाने की याचिका लगाई थी.जिसके खिलाफ मुख्य विपक्षी पार्टी बीजेपी और जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ ने कोर्ट पर पूरे मामले में संज्ञान लेने का आवेदन दिया था.

दोनों ही याचिकाओं की जांच और दस्तावेजों को साक्ष्य मानकर कोर्ट ने कुरूदडीह की 20 एकड़ जमीन को नंदकुमार बघेल की जमीन मानने से इनकार कर दिया.वहीं सरकारी दस्तावेजों में आज भी ये जमीन घास मैदान के तौर पर अंकित है.इसलिए बघेल की याचिका को खारिज कर दिया गया.इस पूरे मामले में बघेल ने शासन पर संसाधनों का दुरुपयोग करने का आरोप लगाते हुए बारिश में जमीन नपवाने का आरोप लगवाया था.

Back to top button