फर्जी दस्तावेज बनवाकर बची दूसरी की जमीन, मामला दर्ज

अंकित मिंज:

बिलासपुर: तारबाहर थानांतर्गत विनोबा नगर में पड़ोसी की जमीन के फर्जी दस्तावेज बनवाकर वृद्ध द्वारा दूसरे व्यक्ति को बेचने का मामला सामने आया है। शिकायत पर पुलिस ने पटवारी समेत 4 के खिलाफ अपराध दर्ज कर लिया है।

रायपुर अंतर्गत डीडी नगर निवासी रामचंद्र लालवानी पिता प्रताप राय लालवानी ने 4 दिसंबर 1976 में विनोबा नगर गली नंबर आर-7 में अब्दुल जब्बार से 2600 वर्गफीट जमीन खरीदी थी। जमीन से लगी हुई रामचंद्र की अलग से 1651 वर्गफीट जमीन थी।

कुल जमीन 4251 में से 3200 वर्गफीट के फर्जी दस्तावेज

उनकी जमीन के बाजू में शंकर नगर निवासी जगदीश सिंह बैस (68) की जमीन है। जगदीश ने वर्ष 2003 में विनोबा नगर के तत्कालीन पटवारी धीरेन्द्र सिंह, जमीन बिचौलिया गोपाल अग्रवाल और नासीरउल्लाह के साथ मिलकर रामचंद्र की कुल जमीन 4251 में से 3200 वर्गफीट के फर्जी दस्तावेज बनाकर अपने नाम पर करा लिया।

जगदीश ने उक्त जमीन को 2600 वर्गफीट और 600 वर्गफीट में बांटकर रामाग्रीन सिटी निवासी अशोक कुमार चतुर्वेदी को बेच दी थी। दिसंबर 2018 में रामचंद्र विनोबा नगर में अपनी जमीन देखने पहुंचे तो वहां जमीन पर अशोक चतुर्वेदी का कब्जा था। अशोक ने उन्हें बताया कि वर्ष 2003 में उसने जमीन जगदीश सिंह से खरीदी थी।

रामचंद्र ने शिकायत आईजी प्रदीप गुप्ता से की थी। आईजी के आदेश के बाद पुलिस ने जांच बाद आरोपी जगदीश,पटवारी धीरेन्द्र,जमीन बिचौलिए गोपाल अग्रवाल और नासीरउल्लाह के खिलाफ धारा 420,34 के तहत अपराध दर्ज कर लिया है।

कबाड़ी ने लगाई फांसी: चांटीडीह में गुरुवार रात कर्ज से परेशान कबाड़ी ने फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। शुक्रवार सुबह पड़ोसियों को उसकी लाश फांसी के फंदे पर मिली। सरकंडा पुलिस के अनुसार चांटीडीह निवासी मो. सलीम उर्फ कज्जू (55) कबाड़ का व्यवसाय करता था।

कुछ महीने पूर्व उसकी दुकान बंद हो गई थी। कर्ज नहीं चुका पाने और आय का जरिया बंद होने पर वह पिछले कुछ महीनों से शराब का आदि हो गया था। दो दिन पूर्व उसके परिजन शादी में शामिल होने कोरबा चले गए थे।

मृतक के कोट की जेब से उसका सुसाइड नोट मिला,जिसमें मृतक ने धंधा बंद होने के बाद कर्ज तले दबने और कर्ज नहीं चुका पाने के कारण खुदकुशी करने का जिक्र किया है। मर्ग कायम कर पुलिस जांच कर रही है।

advt
Back to top button