लता और रतन टाटा ने वाजपेयी के निधन पर शोक जताया

लता ने कहा, ” मैं उन्हें पिता के समान मानती थी

नई दिल्ली : काल के कपाल पर लिखने-मिटाने’ वाली वह अटल आवाज हमेशा के लिए खामोश हो गई। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का गुरुवार शाम एम्स में इलाज के दौरान निधन हो गया। वह 93 साल के थे.

निधन की खबर मिलते ही स्वर कोकिला लता मंगेशकर ने कहा कि भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी के निधन की खबर सुनकर वह स्तब्ध हैं। भारत रत्न ने लता ने कहा, ” मैं उन्हें पिता के समान मानती थी और वह मुझे अपनी बेटी जैसा मानते थे। मैं हमेशा उनको दद्दा कह कर बुलाती थी। आज मुझे वैसा ही दुख हुआ है जैसा कि मेरे पिता के स्वर्गवास के समय हुआ था।”

टाटा ट्रस्ट के चेयरमैन रतन एन टाटा ने कहा, “वाजपेयी जी महान नेता थे। उनका दिल करुणा से भरा था और वह हास्य रंग के भी थे। वह हम सब को हमेशा याद आएंगे।”

टाटा संस समूह के चेयरमैन एन चंद्रशेखरन ने कहा, “देश ने विश्व स्तर पर स्वतंत्र भारत के एक महान नेता को खो दिया। वाजपेयी जी ने महान ज्ञान, दूरदर्शिता और प्यार के साथ भारत का नेतृत्व किया।”

अपोलो अस्पताल के संस्थापक-अध्यक्ष डाक्टर प्रताप रेड्डी ने वाजपेयी के दयालु और स्नेही रवैये को याद किया, जब उन्होंने एक चिकित्सा स्थिति का पता लगाया और उसका इलाज किया जिसकी कि उन्हें सख्त जरूरत थी।

रेड्डी ने कहा, “वह अच्छे से ठीक हुए और फिर प्रधानमंत्री बने। जब वह अपने घर पर अस्वस्थ थे तो मैंने उनसे मुलाकात की थी। मैंने अपना एक खास दोस्त खो दिया।”

Tags
Back to top button