कर्नाटक के शिमोगा में देर रात धमाके की तेज आवाज, अब तक 3 लोगों के शव बरामद

विस्फोट इतना भीषण था कि कई घरों के शीशे टूट गए

शिमोगा: कर्नाटक के शिमोगा में गुरुवार रात को ट्रक में भरकर ले जाए जा रहे विस्फोटक में धमाका हो गया, जिससे कम से कम 8 लोगों की मौत हो गई और आसपास के क्षेत्र में झटके महसूस किए गए. पुलिस ने यह जानकारी दी. माना जा रहा है कि विस्फोटक खनन के उद्देश्य से ले जाए जा रहे थे.

विस्फोट इतना भीषण था कि कई घरों के शीशे टूट गए. इस घटना में कुछ लोगों की मौत की बात भी सामने आ रही है. पुलिस ने अब तक 3 लोगों के शव बरामद किए हैं. पुलिस विभाग के आला अधिकारी मौके पर हैं. शिमोगा के जिलाधिकारी (डीसी) शिवकुमार ने कहा कि घबराने की कोई बात नहीं है. हम अलर्ट पर हैं.

उन्होंने कहा कि हम नहीं जानते कि क्या वहां डायनामाइट है. इलाके की घेरेबंदी कर दी गई है. एडिशनल डिप्टी कमिश्नर अनुराधा ने इसे विस्फोट की घटना बताया है. उन्होंने कहा कि विस्फोट शिमोगा शहर से 5-6 किलोमीटर दूर हुआ है.

एडिशनल डिप्टी कमिश्नर ने कहा कि इस घटना में मौतें भी हुई हैं. हालांकि उन्होंने कितनी मौतें हुई हैं, इस संबंध में अभी कोई जानकारी नहीं दी है. वहीं, इस संबंध में कर्नाटक के एडीजीपी (कानून व्यवस्था) प्रताप रेड्डी ने कहा कि विस्फोट की यह घटना शिमोगा ग्रामीण थाना क्षेत्र में हुई है.

एडीजीपी प्रताप रेड्डी ने कहा कि हमें यह नहीं पता कि ट्रक में विस्फोटक था या ट्रक के बगल में एडीजीपी ने भी मौतों की पुष्टि की और कहा कि मौके पर और अधिक विस्फोटक है या नहीं, इस संबंध में जानकारी न होने के कारण जहां विस्फोट हुआ है, पुलिस उस स्थान पर नहीं पहुंची है. ये घटना रात 10.15 बजे की है.

गौरतलब है कि शिमोगा कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा का गृह जिला है. इससे पहले पुलिस विभाग को सूचित किया गया था कि शिमोगा जिले और चिक्कमगलुरु जिले के कुछ हिस्सों में भूकंप के झटके महसूस किए गए थे. अब तक केवल मामूली संपत्ति की क्षति बताई गई है.

हालांकि, नेशनल सेंटर फॉर सीस्मोलॉजी (एनसीएस) वेबसाइट पर या यूएसजीएस साइट पर कर्नाटक में हाल ही में भूकंप की कोई रिपोर्ट नहीं है. आवाज इतनी तेज थी कि कई घरों के शीशे चकनाचूर हो गए. कई स्थानीय लोगों ने घटना के बाद अपनी चिंता व्यक्त करने के लिए सोशल मीडिया का सहारा लिया.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button