लॉमेकर्स का कहना फेसबुक की स्मार्टफोन निर्माताओं के साथ पार्टनशिप्स अब खतरे में

फेसबुक को भी नहीं पता कि स्मार्टफोन निर्माता कैसे यूजर्स का निजी डाटा यूज कर रहे

पिछले कुछ महीनों से ख़बरें आ रही थी कि फोन निर्माताओं द्वारा फेसबुक यूजर्स की निज़ी जानकारी को एक्सेस किया जा रहा हैं। वही न्यूयॉर्क टाइम्स ने भी रिपोर्ट के जरिए बताया था कि फेसबुक ने फोन निर्माताओं को यूजर्स की निजी जानकारी को एक्सेस करने की अनुमति दी हुई हैं। इससे फोन निर्माता इसे आसानी से एक्सेस कर सकते हैं। खास तौर पर ऐसा इसलिए किया गया था ताकि लोग सोशल नैटवर्किंग के ज्यादातर फीचर्स को एप के बिना भी उपयोग कर सकें पर अब यह बात पूरी तरह से सच लगने लगी हैं।

डाटा को मॉनीटर करने में फेल हुई फेसबुक

एनगैजेट की नई रिपोर्ट के मुताबिक फेसबुक ने यूजर्स की निजी जानकारी को एक्सेस करने के लिए स्मार्टफोन निर्माताओं के साथ पार्टनशिप तो की हुई हैं लेकिन फेसबुक डाटा को मॉनीटर करने में फेल हो रही हैं यानी नजदीक से पता नहीं करती हैं कि स्मार्टफोन निर्माता कैसे यूजर्स का निजी डाटा यूज कर रहे हैं।

अमरीकी सीनेटर ने किया दावा

अमरीका के सीनेटर रॉन वैडन (Senator Ron Wyden) ने स्टेटमेंट में दावा हैं कि फेसबुक ने डाटा शेयरिंग को लेकर स्मार्टफोन निर्माताओं के साथ पार्टनरशिप की हुई हैं, लेकिन कम्पनी कह रही हैं कि हमारी प्राइवेसी टॉप पर हैं। फेसबुक के अपने एडिटर्स को कहा हैं कि कम्पनी यह मोनीटर ही नहीं करती कि स्मार्टफोन निर्माता अमरीकियों की पर्सनल निजी जानकारी के साथ क्या कर रहे हैं। लेकिन यह पता लगाना बहुत जरूरी हैं कि स्मार्टफोन निर्माता फेसबुक की अपनी पालिसी पर खरे उतर रहे हैं या नहीं।

टैक कम्पनियों के साथ शेयर कर चुकी डाटा

न्यूयॉर्क टाइम्स का कहना हैं कि कैम्ब्रेज एनलिटिका स्कैन्डल जब से सामने आया हैं तो इसके बाद कम्पनी ने स्मार्टफोन निर्माताओं के साथ निजी जानकारी को एक्सेस करने वाले इस कार्यक्रम पर ध्यान देना बंद कर दिया हैं। इससे पहले सोशल नैटवर्क से यूजर की जानकारी को 50 टैक कम्पनियों के साथ शेयर किया गया हैं। इसमें कोई रहस्य की बात नही हैं कि अमरीका को अब इस टैक जाएंट पर भरोसा नही रहा हैं। वहीं लॉमेकर्स का भी कहना हैं कि कम्पनी की स्मार्टफोन निर्माताओ के साथ पार्टनशिप्स अब खतरे में हैं।

Tags
Back to top button