छत्तीसगढ़राजनीतिराष्ट्रीय

नेता प्रतिपक्ष धरमलाल प्रदेश में बेहतर होती स्कूली शिक्षा व्यवस्था का कर रहे विरोध

डॉक्टर आलोक शुक्ला की संविदा नियुक्ति का विरोध नहीं कर रहे हैं

रायपुर। प्रदेश कांग्रेस कमेटी संचार विभाग के सदस्य आरपी सिंह ने बयान जारी करके कहा है कि नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक डॉक्टर आलोक शुक्ला की संविदा नियुक्ति का विरोध नहीं कर रहे हैं

बल्कि बेहतर होती स्कूली शिक्षा का विरोध कर रहे हैं। प्रदेश में 15 वर्षों तक भारतीय जनता पार्टी की सरकार रही और स्वयं धरमलाल कौशिक जी बेहद महत्वपूर्ण और जिम्मेदार पदों पर रह चुके हैं। आखिर क्या वजह है कि पूरे प्रदेश में भाजपा की सरकार एक भी अंग्रेजी स्कूल नहीं बना सकी।

राज्य में स्कूली शिक्षा व्यवस्था इस कदर लचर रही की प्रदेश की जनता ने धीरे-धीरे सरकारी स्कूलों से मुंह मोड़ना प्रारंभ कर दिया और नतीजा यह हुआ कि राज्य में निजी स्कूलों का जाल फैलता गया और सरकारी स्कूली शिक्षण संस्थाएं लगातार कमजोर होती चली गई।

क्या यह साजिश नहीं थी निजी शिक्षण संस्थाओं को मजबूत करने की और सरकारी शिक्षण संस्थाओं को कमजोर करने की? क्या यह साजिश नहीं थी उन मध्यमवर्गीय गरीब परिवार के बच्चों के खिलाफ जिन्हे महंगी स्कूली शिक्षा सुविधा उपलब्ध नहीं है?

क्या यह प्रदेश के भविष्य के साथ साजिश नहीं थी कि बच्चों का अच्छा शैक्षणिक कैरियर ही ना बन सके? आखिर क्यों भारतीय जनता पार्टी यह चाहती थी कि प्रदेश के होनहार बच्चे सिर्फ तृतीय और चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारी ही बनकर सिमट जाए?

शैक्षणिक व्यवस्था के खिलाफ

आज जब प्रदेश में राजनीतिक फिजा बदली है और छत्तीसगढ़ की जनता ने अपने बेहतर भविष्य के लिए कांग्रेस पार्टी की भूपेश बघेल सरकार को चुना है तब नेता प्रतिपक्ष इसमें न जाने किसके इशारे पर अड़ंगे बाजी कर रहे हैं।

भारतीय जनता पार्टी को यह स्पष्ट करना चाहिए क्या वह राज्य में इस शैक्षणिक सत्र से प्रारंभ हो रहे 40 अंग्रेजी माध्यम के स्कूलों के पक्ष में है या खिलाफ में। भारतीय जनता पार्टी को यह भी स्पष्ट करना चाहिए क्या छत्तीसगढ़ के बच्चों को अंग्रेजी शिक्षा मिलनी चाहिए या नहीं। नेता प्रतिपक्ष का बयान तो यही संदेश देता है कि भारतीय जनता पार्टी राज्य की बेहतर होती शैक्षणिक व्यवस्था के खिलाफ है।

जहां तक बात डॉक्टर शुक्ला के ऊपर लगे आरोपों की है तो नान घोटाला रमन सरकार के भ्रष्टाचार का जीता जागता स्मारक है जो कि छत्तीसगढ़ राज्य के इतिहास के पन्नों में एक रिकॉर्ड के रूप में दर्ज हो चुका है।

किसी अधिकारी को उस घोटाले में संलिप्त बताकर आखिरकार नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक जी ने अप्रत्यक्ष रूप से ही सही यह स्वीकार तो कर लिया है कि प्रदेश में 36 हजार करोड़ का नान का घोटाला हुआ था। नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक और भारतीय जनता पार्टी के किसी भी नेता का किसी अधिकारी के संविदा नियुक्ति पर सवाल उठाना शोभा नहीं देता है।

छत्तीसगढ़ स्वर्णिम राज्य बन सके।

जिस भारतीय जनता पार्टी की पूरी सरकार ही संविदा पर पदस्थ रहे अधिकारी और कर्मचारी चलाते रहे हो। यहां तक कि कुछ अधिकारियों की हैसियत और रुतबा तो तत्कालीन मुख्यमंत्री डॉक्टर रमन सिंह से भी ऊंचा हुआ करता था ऐसे अधिकारी अपने आप को सुपर सीएम कहलाना पसंद करते थे।

इस सरकार में वैसे हालात तो नहीं है। राज्य में भूपेश बघेल सरकार आने के बाद संविदा नियुक्ति सिर्फ उन अधिकारियों को दी जा रही है जिनकी कर्तव्यनिष्ठा ईमानदारी परिश्रम और योग्यता राज्य के हित में है।

कांग्रेस प्रवक्ता आर पी सिंह ने नेता प्रतिपक्ष महोदय को सलाह देते हुए कहा है कि आपका नाम धरमलाल है अर्थात आप धर्मपुत्र हैं। आपके मुंह से हमेशा धर्म न्याय नीति और शास्त्र की बातें शोभा देती है ना कि अधर्म अन्याय और अनीति की!

ऐसे हल्के राजनीतिक बयान आपकी गंभीरता को कम करते हैं और रचनात्मक विपक्ष की भूमिका पर भी सवाल उठाते हैं। आपसे आग्रह है प्रदेश के बच्चों के उज्जवल भविष्य के लिए हम आपस में मिलजुल कर काम करें ताकि आने वाले समय में छत्तीसगढ़ स्वर्णिम राज्य बन सके।

Tags
Back to top button