राष्ट्रीय

राहुल के नेतृत्व में कल राष्ट्रपति से मिलेंगे विपक्ष के नेता

कृषि कानूनों को निरस्त करने की करेंगे मांग

आज भारत बंद के बाद कल यानी बुधवार को विपक्षी दलों का एक संयुक्त प्रतिनिधिमंडल शाम 5 बजे राष्ट्रपति कोविंद (President Ramnath Kovind) से मिलेगा. राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) के अध्यक्ष शरद पवार (Sharad pawar) ने मंगलवार को कहा कि विभिन्न राजनीतिक दलों के नेता राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद से मुलाकात करने के पहले कृषि कानूनों पर चर्चा करेंगे और सामूहिक रुख अपनाएंगे. पवार ने बताया कि इस डेलिगेशन में एनसीपी नेता शरद पवार समेत कांग्रेस पार्टी के नेता राहुल गांधी,लेफ्ट पार्टियों से सीताराम येचुरी और डी राजा और डीएमके से इलांगोवन राष्ट्रपति कोविंद से कल शाम 5 बजे मिलेंगे.

विपक्षी दलों के नेताओं के बुधवार को कोविंद से मिलने और तीन कृषि कानूनों के बारे में उन्हें अपनी चिंताओं से अवगत कराए जाने की संभावना है. पवार की राकांपा समेत कुछ अन्य दलों ने किसान संगठनों द्वारा मंगलवार को बुलाए गए ‘भारत बंद’ का समर्थन किया है.

सूत्रों के मुताबिक पहले विपक्षी दलों के नेता दिल्ली में मुलाकात करेंगे और उस बैठक के दौरान एक प्रस्ताव किसान आंदोलन और कृषि कानूनों को लेकर तैयार किया जाएगा जो शाम को राष्ट्रपति कोविंद को दिया जाएगा. यह प्रतिनिधिमंडल लगभग 24 विपक्षी पार्टियां और कई राज्य सरकारों का प्रतिनिधित्व करेगा.

डी राजा ने TV9 भारतवर्ष ने कहा कि यह डेलिगेशन विपक्षी पार्टियां और कई राज्य सरकारों को represent करेगा और कृषि बिलों को लेकर किसानों-मजदूरों का जो‌ दुख, दर्द और तकलीफ है वह हम राष्ट्रपति के सामने रखना चाहते हैं.

विपक्षी पार्टियां पहले से ही शीतकालीन सत्र की मांग कर रही है और पहले ही प्रधानमंत्री को लोकसभा के स्पीकर को खत लिखकर संसद का सत्र बुलाए जाने की मांग कर चुकी है, जहां पर कृषि बिलों और कृषि आंदोलन पर पर चर्चा की जा सके.

कांग्रेस पार्टी के नेता राहुल गांधी पहले ही तीखा रुख अपनाते हुए कह चुके हैं कि सरकार को किसानों की मांग माननी चाहिए थी और तीनों कृषि कानूनों को वापस लेने चाहिए.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button