राष्ट्रीय

भय्यू महाराज की ‘आसमयिक’ मौत पर नेताओं ने जतायी हैरानी

मुंबईः विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं ने आध्यात्मिक गुरु भय्यूजी महाराज की असामयिक मौत पर हैरानगी जाहिर की है, जिन्होंने इंदौर में मंगलवार दोपहर गोली मारकर कथित तौर पर खुदकुशी कर ली।

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने ट्वीट किया, आध्यात्मिक गुरु भय्यूजी महाराज के निधन की खबर मिली। उनके साथ मेरे निजी संबंध थे। उनका असमय मृत्यु दुखद है। मेरी विनम्र श्रद्धांजलि।

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस ने भी इसी तरह का भाव प्रकट किया। उन्होंने महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश के वंचित वर्ग के लिए किये गये आध्यात्मिक गुरु के कार्यों की सराहना की। फडणवीस ने कहा कि भय्यू महाराज ने किसान और आदिवासी लोगों के लिए खास तौर पर काम किया। उन्होंने ट्विटर पर लिखा, भूमि सुधार, जल संरक्षण, किसानों (के कल्याण) और बाल शिक्षा के क्षेत्र में भय्यू महाराज के कार्य को हमेशा याद रखा जाएगा।

शिवसेना नेता आदित्य ठाकरे ने भी भय्यू महाराज की मौत पर दुख जताया। उन्होंने माइक्रो-ब्लॉगिंग साइट पर लिखा, उनकी आत्मा को शांति मिले। अब भी इस खबर पर विश्वास नहीं हो रहा। महाराष्ट्र विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष राधाकृष्ण विखे-पाटिल ने भय्यू महाराज के निधन को स्तब्ध कर देने वाला और अविश्वसनीय करार दिया।

राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री एवं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पृथ्वीराज चव्हाण ने आध्यात्मिक गुरु के सामाजिक और राजनीतिक कार्यों के लिए उन्हें याद किया। राकांपा प्रवक्ता नवाब मलिक ने भी उनके निधन पर दुख जाहिर किया और कहा कि भय्यू महाराज ने महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश में कई सामाजिक कार्यों में हिस्सा लिया। भय्यू महाराज (50) ने इंदौर स्थित अपने घर में आज कथित रूप से गोली मार कर आत्महत्या कर ली।

गौरतलब है कि कुछ महीने पूर्व मध्य प्रदेश सरकार ने पांच धार्मिक नेताओं को राज्यमंत्री का दर्जा दिया था जिसमें भय्यू महाराज भी शामिल थे। हालांकि, उन्होंने इस दर्जे को यह कहते हुए स्वीकार करने से इनकार कर दिया था कि संत के जीवन में पद का कोई महत्व नहीं होता।

congress cg advertisement congress cg advertisement
Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.