Uncategorized

जानें क्यों खास है ये राखी

4 साल बाद खास संयोग बना है, जब भद्रा का साया नहीं रहेगा

रविवार, 26 अगस्त को रक्षाबंधन है। ज्योतिष विद्वानों के अनुसार इस बार राखी खास है क्योंकि 4 साल बाद खास संयोग बना है, जब भद्रा का साया नहीं रहेगा। भद्राकाल में राखी बांधने पर बहन और भाई दोनों पर अशुभ प्रभाव होता है।

इसके अतिरिक्त इस दिन राजयोग के साथ धनिष्ठा नक्षत्र भी बनेगा। इस बार पूर्णिमा का चांद बहनों के लिए सौभाग्य की सौगात लेकर आ रहा है। कहते हैं जब राजयोग में बहनें अपने भाई को राखी बांधती हैं तो ये दोनों के लिए बहुत लकी रहता है।

ध्यान रखें राहुकाल में कभी भी राखी नहीं बांधनी चाहिए। शाम 4.30 से 6 बजे तक राहुकाल का प्रभाव रहेगा। कुछ विद्वानों का मानना है की अपने भाई की कलाई पर अपराह्न यानी कि दोपहर के समय राखी बांधनी चाहिए। यदि उस दिन अपराह्न का समय न हो तो प्रदोष काल में राखी बांधना उत्तम रहता है।

25 अगस्त को दोपहर 3:17 से पूर्णिमा तिथि का आरंभ हो जाएगा। 26 अगस्त को सूर्योदय के वक्त पूर्णिमा तिथि होने से इस दिन रक्षा बंधन का पर्व मनाया जाएगा। रविवार की दोपहर 4:20 मिनट तक श्रवण नक्षत्र रहेगा इस दौरान बहनों का भाई को राखी बांधना सबसे शुभ रहेगा।

Tags
Back to top button