खेल

ड्रैग फ्लिक करने की कला सीखना करियर का ‘टर्निंग प्वाइंट’ : गुरजीत कौर

गुरजीत 2018 में एशियाई खेलों में रजत पदक जीतने वाली टीम का हिस्सा थीं

नई दिल्ली: पिछले साल महिला एफआईएच सीरीज फाइनल्स में भारत के विजय अभियान में सर्वाधिक गोल करने वाली भारतीय महिला हॉकी टीम की खिलाड़ी गुरजीत कौर ने कहा कि ड्रैग फ्लिक करने की तकनीक की अच्छी तरह से सीख मेरे करियर का टर्निंग प्वाइंट रहा।

हॉकी टीम में हर किसी की अपनी भूमिका होती है और मुझे खुशी है कि मैंने अपनी टीम के लिए एक अच्छी ड्रैग फ्लिकर बनने के लिए अच्छे प्रयास किए। उन्होंने कहा- मुझे मेरा करियर आगे बढऩे के साथ ड्रैग फ्लिक सीखने और उसमें अभ्यस्त बनने में अपनी साथियों और कोचों से काफी मदद मिली।

गुरजीत 2018 में एशियाई खेलों में रजत पदक जीतने वाली टीम का हिस्सा थीं। यह 24 वर्षीय खिलाड़ी भारतीय टीम के लिए महत्वपूर्ण खिलाड़ी बन गई है। उन्होंने कहा कि जूनियर राष्ट्रीय शिविर से जुडऩे से पहले वह ड्रैग फ्लिकिंग की कला से खास अवगत नहीं थी।

गुरजीत ने कहा- मुझे 2012 में जूनियर राष्ट्रीय शिविर से जुडऩे से पहले ड्रैग फ्लिकिंग का अधिक ज्ञान नहीं था। मैंने शिविर से जुडऩे से पहले ड्रैग फ्लिक का अभ्यास किया था लेकिन मैंने इस तकनीक के बेसिक्स को अच्छी तरह से नहीं सीखा था।

उन्होंने कहा- जब मैं शिविर से जुड़ी तभी मैं ड्रैग फ्लिकिंग के बेसिक्स को समझ पायी और फिर मैं इसमें महारत हासिल करने लगी।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button