सभी अपनी दीपावली अच्छे से मनाएं, कोई भी होमगार्ड बेरोजगार नहीं होगा: चेतन चौहान

उत्तर प्रदेश में 25 हजार होमगार्ड्स के भविष्य को लेकर कैबिनेट मंत्री ने दिया आश्वासन

लखनऊ: उत्तर प्रदेश पुलिस के बराबर वेतन होने का फैसला उत्तर प्रदेश के होमगार्ड्स पर भारी पड़ रहा है. सूबे में एडीजी के आदेश के बाद 25 हजार होमगार्ड्स की ड्यूटी को खत्म कर दी गई है.

ड्यूटी को खत्म करने के पीछे बजट को वजह बताया गया है और कहा गया है कि बजट बैलेंस करने के लिए पुलिस और बाकी विभागों ने 32 फीसदी होमगार्ड्स की ड्यूटी काट दी है. ये फैसला 28 अगस्त को मुख्य सचिव की बैठक में ही ले लिया गया था, जिसके बाद एडीजी ने होमगार्ड्स की सेवाएं समाप्त करने का आदेश जारी किया गया.

वहीं 25 हजार होमगार्ड्स के भविष्य को लेकर कैबिनेट मंत्री चेतन चौहान ने आश्वासन दिया कि किसी भी होमगार्ड की नौकरी नहीं जाने देंगे. उन्होंने कहा कि सभी अपनी दीपावली अच्छे से मनाएं. उन्होंने आश्वासन दिया कि कोई भी होमगार्ड बेरोजगार नहीं होगा. चेतन चौहान ने कहा कि सीमित जवान और कम ड्यूटी के फॉर्मूले से हल निकला है.

कैबिनेट मंत्री चेतन चौहान ने कहा इस पूरे मामले को लेकर सीएम योगी से भी बात करेंगे. जानकारी के मुताबिक, होमगार्ड मंत्री चेतन चौहान ने इस पूरे मामले को लेकर आपात बैठक भी बुलाई थी, जिसमें प्रमुख सचिव होमगार्ड और विभाग के दूसरे आलाधिकारियों भी मौजूद थे.

चेतन चौहान का कहना है कि पुलिस में निर्धारित बजट के चलते ऐसा निर्णय लिया गया है. पुलिस विभाग में होमगार्ड स्वयंसेवकों को निर्धारित बजट में ड्यूटी दिलाने के लिए डीजीपी ओपी सिंह से बात की गई है. डीजीपी का कहना है कि वह इसका परीक्षण कराएंगे और बजट के अनुरूप होमगार्ड स्वयंसेवकों की ड्यूटी की व्यवस्था की जाएगी.

Back to top button