छत्तीसगढ़

सरकारी दफ्तर में हो रही थी शराबखोरी और मुर्गा पार्टी, कैमरे में कैद हुई कर्मचारियों की शराब पार्टी.

जानकारी के मुताबिक इस कार्यालय के जिम्मेदार अधिकारी हमेशा दफ्तर से नदारद रहते हैं.

सरगुजा। अम्बिकापुर का जल संसाधन विभाग अपने कारनामों को लेकर हमेशा सुर्खियों में रहता है और अब ये शराब खोरी का अड्डा भी बन चुका है…गाहे बगाहे तो इस बात की खबर अक्सर आती रहती थी कि यहां के कर्मचारी ऑफिस समय में और रात को कार्यालय परिसर में जाम छलकाते हैं…लेकिन आज इसकी हकीकत कैमरे मे भी कैद हो गई।

दरअसल जल संसाधन विभाग क्रमांक 1 और 3 का अनुविभागीय कार्यालय मरीन ड्रायव तालाब के पास शासकीय भवन में संचालित होता है ऐसे में आज जब मीडिया की टीम यहां पहुची तो दफ़्तर के कमरे पूरी तरह खाली थे.. लेकिन यहां के कर्मचारी दफ़्तर कैम्पस में ही आज मुर्गा दारू की पार्टी मनाते नजर आए और इनकी करतुत कैमरे में भी कैद हो गई। वैसे तो कैमरा देखकर ये कर्मचारी भागने का प्रयास जरुर कर रहे थे.. लेकिन शराब का पैक हाथ में लिए भागते समय किसी का वीडियो कैमरे में कैद हो गया.. तो कोई पैग और का मुर्गा रखकर मौके से भागते नजर आए।

जानकारी के मुताबिक इस कार्यालय के जिम्मेदार अधिकारी हमेशा दफ्तर से नदारद रहते हैं.. और अधिकारियां की गैरमौजूदगी मे निचले कर्मचारी यहां रोज इस तरह की पार्टी का आय़ोजन करते हैं.. वीडियो मे दिख रहे सभी लोग शासकीय कर्मचारी हैं.. जिसमे कुछ कार्यालय के लिपिक तो कुछ चपरासी और चौकीदार हैं.. जिन पर कार्यालय की काफी महत्वपूर्ण जिम्मेदारी होती है.. लेकिन उसके बावजूद दिन के उजाले में भी ये लोग कार्यालय में ही दारु मुर्गा की पार्टी मनाते नजर आए.. औऱ कैमरा देखकर भागने का प्रयास किया।

इतना ही नहीं जब आन कैमरा इन लोगों से आयोजन के बारे में जानने का प्रयास किया गया.. तो इन शासकीय कर्मचारियां ने भी दारू मुर्गा खाने की बात को स्वीकार कर लिया.. और जब इनकी करतूत के बारे में विस्तार से जानकारी के लिए इनके अधिकारी के कमरे झांके गए .. तो वो कार्यालय से गायब थे.. और एसडीओ औऱ ईई साहब ने मोबाइल आउट ऑफ कवरेज कर लिया। इधर जब हमने मामले की सूचना कलक्टर को दी तो उन्होने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए जाँच कर दोषियां के खिलाफ कार्रवाई की बात कही।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button