शराब माफिया ने ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मी के ऊपर चढ़ाई शराब से लदी हुई स्कॉर्पियो

गाड़ी रोकने के लिए खड़े जवान सफीउर रहमान, गाड़ी की चपेट में आ गए

दरभंगा:बिहार के दरभंगा के केवटी थाना की पुलिस देर रात गस्ती में अपने थाने के पास सड़क से गुजरने वाले वाहनों की जांच में लगी थी, तभी शराब से लदी एक स्कॉर्पियो गाड़ी पुलिस पुलिस को नजर आई. जब गाड़ी को पुलिसकर्मियों ने रोकने की कोशिश की तो उसने गाड़ी की स्पीड तेज कर दी.

वहीं गाड़ी रोकने के लिए खड़े जवान सफीउर रहमान, गाड़ी की चपेट में आ गए. शराब माफिया की गाड़ी की चपेट में आकर पुलिसकर्मी करीब 200 मीटर तक घिसटता रहा. गाड़ी के आगो बहुत से ट्रक पार्ट हुए थे, रास्ता न होने की वजह से माफियाओं ने गाड़ी रोक दी और मौके से फरार हो गए.

हालांकि इस दौरान ग्रामीणों ने दौड़ाकर स्कॉर्पियो ड्राइवर को पकड़ लिया, अन्य तस्कर, अंधेरा का फायदा उठाकर फरार हो गए. आनन-फानन में गंभीर रूप से जख्मी जवान को केवटी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया, वहीं प्राथमिक इलाज कर तत्काल उसे डीएमसीएच अस्पताल रेफर किया गया. लेकिन वहां पहुचने से पहले ही जवान ने दम तोड़ दिया.

आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी शुरू

वारदात के बाद बड़ी संख्या में पुलिसबल के साथ एसपीडीओ अनुज कुमार मौके पर पहुंचे, और घटना की जानकारी ली. उन्होंने कहा कि यह पूरा केस हत्या का है. शराब से लदी स्कॉर्पियो सवार ने जानबूझकर भागने की कोशिश की, जिसमें पुलिसकर्मी की मौत हो गई. एक शख्स की गिरफ्तारी हो गई है, बाकी लोगों की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी शुरू की जा रही है. मृतक के परिजनों को भी हादसे के बारे में सूचित कर दिया गया हैै.

सहकर्मी की मौत से बौखलाए पुलिस जवान

पुलिसकर्मी की मौत के बाद से ही थाने के अन्य पुलिसकर्मी अपने थाना अध्यक्ष से नाराज हैं. नाम ना जाहिर करने की शर्त पर उनका कहना है कि जब शराब की खेप की आने की गुप्त सूचना थी, तब उसे पकड़ने के लिए व्यापक तैयारी क्यों नहीं की गई. सिर्फ खाना-पूर्ति के लिए उनके एक साथ की जान चली गई.

शराब माफिया ले रहे पुलिस की जान!

दरअसल पुलिस को यह खुफिया जानकारी मिली थी कि एक ऑटो से शराब की खेप जानी है. ऐसे में थाने के पास पुलिसकर्मी चेकिंग में लगे थे. तभी शराब माफियाओं को इसकी भनक लगी, उन्होंने स्कॉर्पियो ले लिया. जब जवानों ने गाड़ी रोकने की कोशिश की तो एक जवान के ऊपर ही गाड़ी चढ़ा दी. तेज रफ्तार की वजह से बाकी पुलिकर्मियों ने भागकर अपनी जान बचाई. एक ग्रामीण ने कहा कि सरकार बिहार में शराब बंदी की बात कहती है लेकिन पहले लोग शराब पी कर जान देते थे, अब शराब माफिया पुलिस की ही ले रहे हैं.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button