छत्तीसगढ़

कोविड के दौर में लाकडाउन ईजाद हुआ…पढ़ें पूरी खबर

एक मिशन पूरा हुआ।

हिमालय मुखर्जी ब्यूरो चीफ रायगढ़

कोविड के दौर में लाकडाउन ईजाद हुआ। लाकडाउन ने भुखमरी ईजाद की। यूं तो हमारे स्टेट में स्थिति अपेक्षाकृत बेहतर है। खास तौर पर राशन वगेरह की उपलब्धता ठीकठाक सुनिश्चित की गई है। जिनके पास कार्ड न हो, उन्हें भी 5 किलो तक राशन की बात है। लेकिन कमी तो हमेशा रह ही जाती है। जहां दिखी, वहां बात जिम्मेदारों तक पहुंचाई गई। इसके साथ एक जिम्मा खुद भी लिया गया।

वो ये कि उम्रदराज, निराश्रित, परित्यक्ता, विधवा, दिव्यांग या अति गरीब जिनके पास उपलब्धता न पहुची हो, या जरूरत पूरी न हुई हो, एक लिस्टिंग करके हमारी ओर से सामान दिया गया। जिले भर में पिछले 5 माह में, दो फेज में करीब 600 एवम 1200 ऐसे परिवारों को राशन, साबुन, मास्क और कुछ अन्य जरूरी सामान दिया गया है।

यह भी पढ़ें :-यूजर चार्ज वसूलने निगम आयुक्त आशुतोष पांडेय ने किया अधिकारियों को चार्ज

कोविड के इस दौर में छोटे, दूर दराज के गांवों में चयन करना, सामान पहुंचाना, कभी कार्य्रकम के माध्यम से, कभी सायकल, बाइक में लादकर घर मे छोड़कर आना, दुरूह काम था। पर टीम के लोग जब लौटकर आते, बताते.. तो उनकी आंखें भी बोलती थी। असीम सन्तोष दिखता था। यह जॉब सेटिस्फेक्शन नही, उससे कोई ऊंची चीज होती थी।

इस काम मे क़ई हाथों ने सहयोग दिया। रमेश अग्रवाल साहब, राजेश त्रिपाठी और और मेरी टीम के लोगो ने कंट्रीब्यूट किया। एन वक्त पर स्थानीय विधायक प्रकाश नायक का भी सहयोग मिला। आज उनके हाथों शहर में इस यज्ञ की पूर्णाहुति सम्पन्न हुई।

कुष्ठ रोगियों के मोहल्ले में 100 बेहद जरूरतमंदों को विधायक साहब के हाथों से वितरण कराया गया। जगह का चयन उनका ही था। उनकी टीम के साथ होने से बड़ा बल मिला, कार्यक्रम की गरिमा भी ऊंची हुई। राहुल शर्मा साहब का योगदान विशेष रहा। सबको धन्यवाद, शुक्रिया, मेहरबानी।

समापन के बाद मोहल्ले के एक चक्कर लगाया। तमाम लेखन, लाइक्स, व्यावसायिक जीवन की उपलब्धियो और वाहवाहियो से इतर एक अलग तरह का सुकून मिला, जो किसी यज्ञ की पूर्णाहुति के बाद जजमान हो होता हो। जिस यज्ञ में देवता खुद उतर कर आशीष दे गए हों।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button