भारत की नागरिकता देने वाले विधेयक को लोकसभा से किया पास

यह विधेयक नागरिकता क़ानून 1955 में संशोधन के लिए लाया गया

नई दिल्ली: पाकिस्तान, अफ़ग़ानिस्तान और बांग्लादेश से आए धार्मिक अल्पसंख्यकों को भारत की नागरिकता देने वाले विधेयक को लोकसभा से पास कर दिया गया. यह विधेयक नागरिकता क़ानून 1955 में संशोधन के लिए लाया गया है.

इस विधेयक के क़ानून बनने के बाद इन तीनों देशों से आए अल्पसंख्यक हिंदू, सिख, बौद्ध, जैन, पारसी और ईसाई धर्म के मानने वालों को 12 के बजाय 06 साल में नागरिकता दी जाएगी.

गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने संसद में असम के कुछ वर्गों की आशंकाओं और धार्मिक आधार पर नागरिकता दिए जाने के आरोपों को निराधार बताया.

1
Back to top button