दो जगह से क्‍यों चुनाव लड़ रहे हैं राहुल गांधी, क्या है सीटों का समीकरण

नई दिल्ली : कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एके एंटोनी ने घोषणा की कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी उत्तर प्रदेश की अमेठी लोकसभा सीट के साथ केरल की वायनाड सीट से भी चुनाव लड़ेंगे। ये बहुत खुशी की बात है। उत्तरी केरल में स्थित वायनाड की सीमा कर्नाटक और तमिलनाडु से लगती है। इससे पहले राहुल गांधी को कर्नाटक, तमिलनाडु और केरल से चुनाव लड़ाने की मांग की जा रही थी।

कई राजनीति विश्लेषकों ने इस कदम को अमेठी सीट पर स्मृति इरानी की सक्रियता से जोड़कर देखा है। भाजपा के वरिष्ठ नेता रविशंकर प्रसाद ने आरोप लगाया कि राहुल गांधी ने इस सीट का चुनाव इसलिए किया है क्योंकि वायनाड अल्पसंख्यक बहुल सीट है। अमेठी में उनकी जड़ें हिलने लगी हैं। इस कारण असहाय व असुरक्षित राहुल गांधी अमेठी को छोड़कर दक्षिण भारत के वायनाड चले गए हैं। हालांकि, कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि वायनाड सीट इसलिए चुनी गई क्योंकि यह सीट तीन राज्यों को स्पर्श करती है।

वायनाड में राहुल गांधी का मुकाबला एलडीएफ के पीपी सुनीर से होगा जो सीपीआई के युवा नेता हैं। वैसे तो भाजपा ने इस सीट को सहयोगी बीडीजेएस को आवंटित की है लेकिन अब इस बात की संभावना ज्यादा है कि भाजपा यहां से अपने किसी बड़े नेता को मैदान में उतारे।

Back to top button