लोक सुराज : सभी बैगा परिवारों को प्रधानमंत्री आवास की सौगात

महुआ पेड़ की छांव में लगी डॉ. सिंह की चौपाल

रायपुर : लोक सुराज अभियान के तहत मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह कबीरधाम (कवर्धा) जिले के बैगा आदिवासी बहुल ग्राम सिंघारी (विकासखंड-बोड़ला) का अचानक दौरा किया। मुख्यमंत्री सब से पहले अपने उड़नखटोला से ग्राम सिंघारी पहुंचे। उन्होंने सबसे पहले बोड़ला-तरेगांव-दलदली की 41 किलोमीटर निर्माणाधीन सड़क का निरीक्षण किया। उन्होंने निर्माणकार्य में देरी होने पर अपनी नाराज़गी जताई, पर ग्राम सिंघोरी और सम्पूर्ण बोड़ला विकासखंड के सभी घरो को बिजली का कनेक्शन मिलने पर ख़ुशी जताई और उर्जा विभाग के अधिकारीयों और कर्मचारियों कि तारीफ़ भी की

मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को यह सुनिश्चित करने के निर्देश दिए कि बोड़ला-तरेगांव-दलदली सड़क निर्माण मानसून आने के पहले हर हाल में पूर्ण हो जाना चाहिए। डॉ. सिंह ने कहा कि बैगा आदिवासी बहुल इस इलाके में ग्रामीणों की सुविधा के लिए यह सड़क मंजूर की गई है। इसका निर्माण छह महीने पहले पूर्ण हो जाना था, लेकिन संबंधित ठेकेदार द्वारा विलंब किया जा रहा है। अधिकारी यह देखें कि ठेकेदार समय पर काम पूर्ण करें। मुख्यमंत्री ने सिंघारी में आदिवासी बालक छात्रावास का आकस्मिक निरीक्षण भी किया। उन्होंने वहां बच्चों से बातचीत करते हुए उनकी पढ़ाई और उनकी भोजन व्यवस्था सहित विभिन्न उपलब्ध सुविधाओं के बारे में जानकारी ली।

डॉ. सिंह ने सिंघारी में महुआ पेड़ की छांव में चौपाल लगायी और शासन की विभिन्न योजनाओं के तहत सिंघारी सहित आसपास के गांवों में चल रहे कार्योें के बारे में ग्रामीणों से जानकारी ली। उन्होंने चौपाल में यह भी पूछा कि राशन दुकान से हर महीने चावल और नमक मिल जाता है या नहीं ? अगर मिलता है तो क्या चावल की क्वालिटी ठीक रहती है। ग्रामीणों ने उन्हें बताया कि राशन सामग्री नियमित रूप से मिल रही है और चावल की क्वालिटी भी ठीक है।

उन्होंने चौपाल में पड़ोस के ग्राम कांगचुवा से आकर सिंघारी में निवास कर रहे ग्रामीण राजाराम बैगा के लिए कलेक्टर को उनके पुराने राशन कार्ड के बदले नया राशन कार्ड बनवाने के निर्देश दिए, ताकि उन्हें भी राशन नियमित रूप से मिल सके। मुख्यमंत्री ने यह जानकर काफी खुश हुए कि सिंघारी में सभी घरों में बिजली पहुंच गयी है और ग्रामीणों को रातों में पर्याप्त रौशनी मिल रही है। उन्होंने चौपाल में कहा कि राज्य सरकार ने प्रधानमंत्री सहज बिजली हर घर योजना (सौभाग्य) के तहत इस वर्ष जून माह तक प्रदेश के सभी शेष रह गए विद्युत विहीन घरों और मजरों टोलों में बिजली पहुंचाने का लक्ष्य तय किया है। इसके अंतर्गत युद्ध स्तर पर काम हो रहा है।

मुख्यमंत्री की घोषणाएं
सभी बैगा परिवारों को प्रधानमंत्री आवास

डॉ. सिंह ने सिंघारी की चौपाल में ग्रामीणों के आग्रह पर क्षेत्र के विकास के लिए 46 लाख रूपए से ज्यादा राशि की मंजूरी दी। उन्होंने सभी बैगा आदिवासी परिवारों के लिए प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत मकान स्वीकृत करने, सिंघारी में मुक्तिधाम निर्माण के लिए छह लाख रूपए, हाई स्कूल में दो अतिरिक्त कमरों के निर्माण के लिए 10 लाख रूपए, ग्राम कांगचुआ में पुलिया निर्माण, ऐतिहासिक स्थल ग्राम पचराही में धर्मशाला निर्माण के लिए 15 लाख रूपए और धर्मशाला में पेयजल सुविधा के लिए पांच लाख रूपए मंजूर करने की घोषणा की। चौपाल में मुख्यमंत्री ने ग्रामीणों कोे रसोई गैस कनेक्शनों के लिए चल रही प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना सहित प्रधानमंत्री आवास योजना, पेयजल व्यवस्था आदि के बारे में विस्तार से बातचीत की।

मुख्यमंत्री से मिली बैगा आदिवासी महिलाएं

मुख्यमंत्री से आज उनके सिंघारी प्रवास के दौरान हेलीपेड पर निकटवर्ती ग्राम कांगचुआ निवासी दो बैगा आदिवासी महिलाओं ने भी मुलाकात की। इनमें से कुलमत बैगा ने मुख्यमंत्री को बताया कि उन्हें प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत मकान तो मिल गया है, लेकिन जिस जमीन पर उनका परिवार वर्षाें से खेती कर रहा है, उसका वन अधिकार मान्यता पत्र उन्हें अब तक नहीं मिल पाया है। इस पर मुख्यमंत्री ने कलेक्टर को फूलमत के प्रकरण का तत्काल परीक्षण करने और वन अधिकार मान्यता पत्र दिलाने के निर्देश दिए। डॉ. रमन सिंह ने सिंघारी के एक चरवाहा शत्रुघन यादव से भी बड़ी आत्मीयता से मिलकर उनका हालचाल पूछा। इस अवसर पर मुख्य सचिव अजय सिंह और मुख्यमंत्री के सचिव सुबोध कुमार सिंह भी उपस्थित थे।

advt
Back to top button