छत्तीसगढ़

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह की सरकार हमेशा गरीबो की चिंता करती है – जिला पंचायत सदस्य तिवारी

लोक सुराज : समाधान शिविर में 1189 आवेदन पत्रों का सकारात्मक निराकरण

कोरिया : राज्य व्यापी लोक सुराज अभियान के तृतीय चरण के प्रथम दिन कल विकासखंड बैकुण्ठपुर के ग्राम सांवारांवा और विकासखंड सोनहत के दूरस्थ वनांचल के ग्राम उज्ञांव में लक्ष्य समाधान शिविर का आयोजन किया गया। ग्राम उज्ञांव में जिला पंचायत के सदस्य देवेन्द्र तिवारी, जनपद पंचायत के सदस्य देवराज, ग्राम उज्ञांव के सरपंच रामदास के साथ कलेक्टर नरेंद्र कुमार दुग्गा ने मां सरस्वती के चित्र के समक्ष दीप प्रज्जवलित कर लक्ष्य समाधान शिविर का शुभारंभ किया।

लक्ष्य समाधान शिविर ग्राम पंचायत उज्ञांव सहित आनंदपुर, नटवाही, रामगढ, सिंघोर ग्राम पंचायत के मध्य आयोजित किया गया। शिविर में इन सभी ग्राम पंचायतों के 20 गांवों के जनप्रतिनिधिगण एवं बडी संख्या में ग्रामीणजनों ने उत्साहपूर्वक भाग लिया।

लोक सुराज अभियान के प्रथम चरण में इन पांच ग्राम पंचायतों के लोगों द्वारा अपनी मांगों और शिकायतों के संबंध में एक हजार 253 आवेदन पत्र प्रस्तुत किये गये थे। इनमें से एक हजार 189 आवेदन पत्रों का सकारात्मक निराकरण कर इसकी जानकारी शिविर में आम लोगों के समक्ष दी गई। कलेक्टर दुग्गा के निर्देश पर शिविर के सफल आयोजन के लिए व्यापक व्यवस्था की गई थी।

जिला पंचायत के सदस्य तिवारी ने लक्ष्य समाधान शिविर को संबोधित करते हुए कहा कि मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह की सरकार हमेशा गरीबों की चिंता करने वाली सरकार है। गरीबों को मामूली दर पर चावल, चना और अमृत नमक निःशुल्क दिया जा रहा है।

उन्होने कहा कि सौर सुजला योजना के तहत किसानों को साढे तीन लाख और साढे चार लाख रूपये की लागत की सिंचाई पंप को मात्र 10 हजार और 15 हजार में दिया जा रहा है।

उन्होने कहा कि प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के तहत साढे चार हजार रूपये की लागत की गैस सिलेंडर ग्रामीण महिलाओं को मात्र 200 रूपये की पंजीयन शुल्क पर दिया जा रहा है। उन्होने कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत आवासहीन और बेघर लोगों को आवास निर्माण के लिए 1 लाख 30 हजार रूपये की राशि दी जा रही है। उन्होने कहा कि स्वच्छ भारत मिशन के तहत स्वच्छ और स्वस्थ्य रहने के लिए शौचालय का निर्माण किया गया है। शौचालय के नियमित उपयोग से समाज में लोगों को सम्मान बढा है।

कलेक्टर दुग्गा ने शिविर के महत्व को रेखांकित करते हुए कहा कि लोक सुराज अभियान राज्य शासन की सर्वोच्च प्राथमिकता हैं। उन्होने कहा कि शासकीय योजनाओं का लाभ वास्तविक हितग्राहियों को मिल रहा है कि नहीं, इसकी जानकारी प्राप्त करना और अंतिम पंक्ति के अंतिम व्यक्ति तक शासकीय योजनाओं का लाभ पहुंचाना, इस अभियान लक्ष्य है।

उन्होने कहा कि लोगों की आय में वृध्दि करने के लिए विभिन्न स्वरोजगारमूलक कार्य प्रारंभ किया जा रहा है। उन्होने जिले में मत्स्य पालकों के लिए 500 से एक हजार तक नये तालाबों का निर्माण करने की जानकारी दी। जिले के पुलिस अधीक्षक विवेक शुक्ला ने भी लक्ष्य समाधान शिविर को संबोधित किया।

उन्होने कहा कि पुलिस विभाग जनता के साथ है। उन्होने कहा कि पुलिस और ग्रामों के मध्य सेतु का कार्य करने के लिए महिला पुलिस स्वयं सेवकों के मानसेवी पदों पर भर्ती की जा रही है। इस अवसर पर उन्होने हेलमेट के उपयोग के संबंध में जानकारी दी और उन्होने आम लोगों को अनैतिक कार्यों से दूर रहने की समझाईश दी ।

लक्ष्य समाधान शिविर को जनपद पंचायत सदस्य देवराज और ग्राम के सरपंच राम दास ने भी संबोधित किया। इसके पूर्व कलेक्टर दुग्गा ने भ्रमण कर लगाये गये स्टालों का अवलोकन किया और संबंधित अधिकारियों को आवश्यक निर्देश दिये।

लक्ष्य समाधान शिविर में कलेक्टर दुग्गा ने बताया कि महात्मा गांधी राश्ट्रीय रोजगार गारंटी योजना के तह जनपद पंचायत सोनहत में 96 निर्माण और विकास कार्यों के लिए एक करोड 14 लाख रूपये की राशि की स्वीकृति प्रदान की गई है। इसके अलावा उन्होने गरीबी रेखा श्रेणी के 97 लोगों को नये राशन कार्ड और 133 लोगों का नाम राशन कार्ड में शामिल करने की जानकारी दी ।

इसी तरह प्रधानमंत्री उज्जवला योजना के तहत एक सौ महिलाओं को गैस कनेक्शन प्रदान करने, 12 नये हैंड पंप की स्वीकृति, प्रधानमंत्री आवास येाजना के तहत 8 लोगों को इस वर्श आवास उपलब्ध कराने, कृशि विभाग के शाकंभरी योजना के तहत 04 लोगों को विद्युत एवं डीजल पंप की स्वीकृति, 07 सोलर ड्यूल पंप, ग्राम सिंघोर में सौर पावर प्लांट की स्थापना और ग्राम सिंघोर में ही आदिवासी विकास विभाग द्वारा संचालित छात्रावास में पेयजल हेतु सोलर पंप एवं 13 लोगों को सामाजिक सुरक्षा पेंशन की स्वीकृति प्रदान करने की जानकारी दी ।

उन्होने 03 कृशकों को नये ऋण पुस्तिका, 11 नामांतरण, 07 बंटवारा और 03 सीमांकन के प्रकरण का निराकरण तथा राजस्व पुस्तक परिपत्र के प्रावधानों के तहत पांच लोगों को 99 हजार से अधिक रूपये और राश्ट्रीय परिवार सहायता योजना के तहत फुलकंुवर को 20 हजार रूपये का चेक प्रदान कर राशि का सदुपयोग करने की समझाईश दी।

शिविर में वनमंडल बैकुण्ठपुर के वनमंडलाधिकारी इमो तेन्सू अउ, गुरूघासीदास राश्ट्रीय उद्यान के संचालक एफ.टोप्पो, सोनहत अनुभाग के अनुविभागीय अधिकारी राजस्व अरूण कुमार मरकाम सहित विभिन्न विभागों के जिला स्तरीय अधिकारी उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन जिला लोक शिक्षा समिति के जिला परियोजना अधिकारी उमेश जायसवाल ने किया।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button