एसडीएम कार्यालय में अर्जियों की लगी ढेर,शादी-ब्याह की अनुमति मांगने वालों की संख्या ज्यादा

कलेक्टर व जिला दंडाधिकारी ने जिले में धारा 144 को लागू कर दिया है।

ब्यूरो चीफ:- विपुल मिश्रा
बिलासपुर : कोरोना की दूसरी लहर ने एक बार फिर लोगों की परेशानी बढ़ा दी है। खासकर उनकी जिन्होंने अप्रैल व मई के महीने में शादी ब्याह से लेकर अन्य कार्यक्रम कराने के लिए अपनी योजना बना ली थी और उसी के अनुस्र्प तैयारी शुरू कर दी थी। कलेक्टर व जिला दंडाधिकारी ने जिले में धारा 144 को लागू कर दिया है। इसके साथ ही लोगों को एक जगह भीड़ इकठ्ठी ना करने की हिदायत भी दी है।

ग्रामीण क्षेत्रों में सामाजिक व धार्मिक कार्यक्रमों की शुरुआत 

शादी ब्याह की तिथि पहले से ही तय करने वाले अब अनुविभागीय अधिकारी कार्यालय का अनुमति के लिए चक्कर काट रहे हैं।
होली त्योहार के बाद जिला मुख्यालय के अलावा आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों में सामाजिक व धार्मिक कार्यक्रमों की शुस्र्आत हो जाती है। अप्रैल में विवाह मुहुर्त है। बेटे व बेटियों के हाथ पील करने के लिए लोगों ने विवाह की तिथि भी पहले से तय कर रखी है। लगन के बाद तय मुहुर्त में शादी करने के लिए दोनों पक्ष ने आपसी सहमति के आधार पर शादी की तारीख भी तय कर रखी है। निमंत्रण पत्र छपवाने से लेकर स्वजनों,मित्रों व जान पहचान वालों के बीच बांटने का काम भी शुरू कर दिया है।

कोरोना संक्रमण को रोकने और भीड़ को नियंत्रित करने के लिए कलेक्टर ने होली के पहले ही जिले में धारा 144 को प्रभावशील कर दिया है। इसके साथ ही जस्र्री दिशा निर्देश भी जारी कर दिया है। इसमें सामाजिक व धार्मिक कार्यक्रमों की पूरी तरह मनाही कर दी गई है। यही आदेश लोगों के लिए परेशानी का कारण बन गया है। शादी व्याह करने वालों को अनुमति तो मिल रही है पर यह सब सशर्त है। कोविड-19 प्रोटोकाल का पालन करने की शर्त पर अनुमति दी जा रही है। सीमित संख्या में लोगों की मौजूदगी के बीच समारोह करने की अनुमति मिल रही है।

Tags
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement
cg dpr advertisement cg dpr advertisement cg dpr advertisement
Back to top button