छत्तीसगढ़

अल्प वर्षा प्रभावित तहसीलों में खेतों को पानी देने का सिलसिला शुरू 

रायपुर:  अल्प वर्षा प्रभावित 14 जिलों की 29 तहसीलों में मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के निर्देश पर प्रमुख सिंचाई जलाशयों से नहरों में पानी छोड़ने का सिलसिला शुरू हो गया है। इससे किसानों को रोपा और बियासी के कार्यों में आसानी होगी। मुख्य सचिव विवेक ढांड की अध्यक्षता में आज शाम यहां मंत्रालय में आयोजित संभागीय कमिश्नरों और संबंधित जिला कलेक्टरों के वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में यह जानकारी दी गई।

जल संसाधन विभाग के अधिकारियों ने बैठक में बताया कि रविशंकर सागर जलाशय (गंगरेल) से रायपुर जिले के अंतर्गत आरंग और तिल्दा तथा जिला बलौदाबाजार के अंतर्गत पलारी, बलौदाबाजार, कसडोल, बिलाईगढ़ और सिमगा तहसीलों में पानी दिया जा रहा है। इसी उद्देश्य से धमतरी जिले में कुरूद और मगरलोड तहसीलों के किसानों के लिए गंगरेल जलाशय से और नगरी तहसील के किसानों के लिए दुधावा जलाशय से पानी छोड़ा गया है। गरियाबंद जिले के अंतर्गत राजिम और गरियाबंद तहसीलों में सिकासेर बांध से पानी छोड़ा गया है। बालोद जिले के अंतर्गत गुरूर तहसील के लिए गंगरेल बांध से पानी दिया जा रहा है। जांजगीर-चांपा जिले में जैजैपुर तहसील के किसानों के लिए हसदेव बांगो बांधा से पानी छोड़ा गया है, वहीं गनियारी (खुटिया) बांध से मुंगेली जिले के लोरमी तहसील में किसानों को पानी दिया जा रहा है।

बैठक में कृषि विभाग के अधिकारियों ने अपने प्रतिवेदन में बताया कि छत्तीसगढ़ में इस वर्ष मानसून की बारिश 12 जून से शुरू हुई। आज 31 जुलाई तक राज्य में 539.1 मिलीमीटर औसत वर्षा रिकार्ड की जा चुकी है, जो इसी अवधि की सामान्य वर्षा 546.3 मिलीमीटर से सिर्फ 7.2 (सात दशमलव दो) मिलीमीटर कम है।

प्रदेश के दस जिलों में 61-80 प्रतिशत, 10 जिलों में 81-119 बारिश, छह जिलों में 120 प्रतिशत से अधिक वर्षा :

कृषि विभाग के प्रतिवेदन के अनुसार राज्य में इस वर्ष अब तक 41 प्रतिशत से 60 प्रतिशत औसत वर्षा दुर्ग जिले में दर्ज की गई है। इसके अलावा 61 प्रतिशत से 80 प्रतिशत तक औसत वर्षा वाले जिलों की संख्या 10 है, जिनमें महासमुन्द, रायपुर, बलौदाबाजार, गरियाबंद, बिलासपुर, मुंगेली, राजनांदगांव, बेमेतरा, धमतरी और कांकेर शामिल हैं।

प्रदेश के दस जिलों में सामान्य वर्षा अर्थात 81 से 119 प्रतिशत औसत वर्षा हुई है, जिनमें दस जिलों में कोरिया, रायगढ़, जांजगीर-चांपा, कोरबा, कबीरधाम, बालोद, बस्तर, नारायणपुर, दंतेवाड़ा और बीजापुर सम्मिलित हैं। इनके अलावा 120 प्रतिशत से अधिक औसत वर्षा छह तहसीलों में रिकार्ड की गई है। इनमें सरगुजा, सूरजपुर, बलरामपुर, जशपुर, कोण्डागांव और सुकमा शामिल हैं।

Back to top button