क्राइम

लखनऊ : नौकरी दिलवाने के नाम पर 25 लाख की ठगी

पीड़ितों ने पुलिस को बताया कि दुर्गेश के पास दर्जन भर से ज्यादा लग्जरी गाड़ियां हैं।

एनबीटी, लखनऊ : प्रमुख सचिव बेसिक शिक्षा बनकर गोरखपुर के जालसाज दुर्गेश यादव ने दर्जनों बेरोजगारों से लाखों रूपये ऐंठ लिए। ठगी के शिकार छह युवकों ने रविवार को एसएसपी से शिकायत की है। पीड़ितों के अनुसार आरोपित ने नौकरी दिलवाने के नाम पर 25 लाख रुपये लिए थे। एसएसपी के निर्देश पर हजरतगंज पुलिस के छानबीन में पता चला कि जालसाज ने कई युवकों को अलग-अलग विभागों में नियुक्ति पत्र देने के साथ ही प्रशिक्षण भी करवा रहा है।

एटा और जालौन से आए पीड़ितों ने बताया कि पिछले साल सचिवालय के बाहर दुर्गेश यादव से मुलाकात हुई थी। लग्जरी गाड़ी पर नीली बत्ती और सचिवालय का पास लगाकर चलने वाले दुर्गेश ने खुद को प्रमुख सचिव बेसिक शिक्षा बनाकर पीड़ितों को पार्क रोड स्थित कार्यालय ले गया। जालसाज का तौर-तरीका देखकर फैसल, सुरजीत, विकास, रामनरेश, बृजेश और रिंकू झांसे में आ गए। इसके बाद पीड़ितों ने अलग-अलग विभागों में नौकरी के लालच में रुपये दे दिए।

आरोपित ने कुछ दिन बाद फैसल और विकास को रेलवे, सुरजीत को बेसिक शिक्षा विभाग में सहायक अध्यापक, बृजेश को स्वास्थ्य विभाग और रामनरेश व रिंकू में सचिवालय में नियुक्ति का पत्र थमा दिया। फैसल को कोलकता भेजकर रेलवे परिसर में ही करीब दो महीने तक ट्रेनिंग भी करवाई गई। आरोप है कि बाकी पीड़ितों को भी अलग-अलग शहरों में भेजकर संबंधित विभाग के दफ्तरों में ही ट्रेनिंग दिलवाई गई। इसके बाद संबंधित विभाग में संपर्क करने पर ठगी की जानकारी हुई।

रुपये की जगह गाड़ी देने का ऑफिर

पीड़ितों ने पुलिस को बताया कि दुर्गेश के पास दर्जन भर से ज्यादा लग्जरी गाड़ियां हैं। जालसाजी की जानकारी होने के बाद रुपये वापस मांगने पर आरोपित काफी समय तक टरकाता रहा। दबाव बनाने पर पांच लाख रुपये में फारच्युनर गाड़ी देने का ऑफर दिया। हालांकि नौकरी के लिए किसी तरह रुपये का इंतजाम करने वालों ने गाड़ी लेने से इनकार कर दिया।

इस पर आरोपित ने रुपये लौटाने से मना कर दिया। इंस्पेक्टर हजरतगंज राधा रमण सिंह के अनुसार पीड़ितों से मिली जानकारी से आशंका है कि दुर्गेश ने फर्जीवाड़े से गाड़ियों को फाइनेंस करवाया है। गोरखपुर के धुरियापार निवासी दुर्गेश यादव को दबोचने के लिए साइबर क्राइम और सर्विलांस सेल की मदद ली जा रही है।

Summary
Review Date
Reviewed Item
लखनऊ : नौकरी दिलवाने के नाम पर 25 लाख की ठगी
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags