लखनऊ:जारी हुआ अजीब फरमान, ईद पर गले नहीं मिल पाएंगे नमाज़ी

लखनऊ: उत्तर प्रदेश में बड़े पैमाने पर स्वाइन फ्लू फैलने के बाद देश के बड़े मुस्लिम उलेमा ने यहां बक़रीद पर गले न मिलने की अपील की है.

उत्तर प्रदेश के 75 में से 66 ज़िलों में स्वाइन फ्लू के मरीज़ मिले हैं. माशूर सुन्नी मौलाना खालिद रशीद फिरंगिमहली ने अपील जारी की है कि बकरीद की नमाज़ के बाद गले न मिलें बल्कि सलामकर के मुबारकबाद दे.

क्योंकि गले मिलने से स्वाइन फ्लू का ख़तरा है. माशूर शिया मौलाना कल्बे जव्वाद ने कहा है कि गले मिलते वक़्त मास्क लगाएं.

ईद पर कुछ लोग तीन बार गले मिलते हैं तो कुछ एक बार…भारत-पाकिस्तान, बांग्लादेश में ईद की मुबारकबाद देने का यह रवायती तरीक़ा है…अरब आमतौर पर ईद में हाथ मिलाते हैं और गाल पे गाल या नाक पे नाक रख के किस करते हैं…

ईरान और कई दूसरे मुस्लिम देशों में भी यही चलन है लेकिन स्वाइन फ्लू के डर से उलेमा की अपील है कि इस ईद पर गले न मिलें.

पर्सनल लॉ बोर्ड के मेंबर और माशूर सुन्नी मौलाना खालिद रशीद फिरंगिमहली ने बताया कि उत्तर प्रदेश की 20 फीसद आबादी मुस्लिम है.

इनमें से ज़्यादातर लोग ईद में नमाज़ पढ़ते हैं और एक दूसरे के गले मिलते हैं. चूंकि हाथ मिलाने या गले लगने से स्वाइन फ्लू के इन्फेक्शन का ख़तरा है, इसलिए ईद की नमाज़ के बाद गले मिलने के बजाए सिर्फ़ सलाम कर के मुबारकबाद दें.

खुदा भी अपने बंदों की हिफ़ाज़त चाहता है. अगर कोई त्योहार स्वाइन फ्लू फैलने की वजह बन जाए तो यह शर्म की बात होगी.”

उत्तर प्रदेश के 75 ज़िलों में से 66 में यानी प्रदेश के क़रीब 88 फीसद इलाक़े में स्वाइन फ्लू के मरीज़ मिले हैं लेकिन स्वाइन फ्लू के कुल 2725 मरीज़ों में 1622 सिर्फ़ लखनऊ में हैं, 12 की मौत हो गई है.

ईद की सबसे बड़ी नमाज़ भी यहीं होती है और नमाज़ के बाद हर शख्स दर्जनों लोगों से गले मिलता है.

Back to top button