उत्तर प्रदेशराज्य

रेलवे: सिर्फ 2 अफसरों के लिए जोड़ी एक्स्ट्रा बोगी!

लखनऊ: दीपावली मनाकर लौट रहे हजारों लोगों को ट्रेनों में सीट मिलना तो दूर सवार होने भर के लिए पसीना बहाना पड़ा, वहीं उत्तर रेलवे ने आम यात्रियों की फिक्र छोड़ सिर्फ दो रेल अफसरों के लिए पद्मावत एक्सप्रेस में अलग से फर्स्ट एसी कोच लगवा दिया।

इतना ही नहीं, इसके लिए ट्रेन करीब 50 मिनट लेट की गई और प्लैटफॉर्म तक बदल दिया गया, जिससे आम यात्रियों को काफी परेशान हुई।

शनिवार को ट्रेनों में एक-एक सीट की मारामारी थी। इसी भीड़ में दो रेल अफसरों और उनके परिजनों को वीआईपी कोटे में भी जगह नहीं मिली। शाम करीब 5.40 बजे पद्मावत एक्सप्रेस का चार्ट रिलीज हुआ।

उसमें भी जगह नहीं मिलने पर अफसरों ने रेलवे बोर्ड से यात्रियों की भीड़ के नाम पर एक्स्ट्रा कोच लगवाने का जुगाड़ लगाया। रात करीब 20.40 बजे रेलवे बोर्ड के एक सीनियर अफसर ने पद्मावत में फर्स्ट कम सेकंड एसी का कम्पोजिट कोच लगाने का आदेश दिया।

इसके बाद मकैनिकल डिपार्टमेंट, इलेक्ट्रिकल डिपार्टमेंट, कमर्शल डिपार्टमेंट और ऑपरेटिंग डिपार्टमेंट के कर्मचारियों में अफरातफरी मच गई।

सिक लाइन से एक्स्ट्रा कोच को फिट कराकर ट्रेन में लगाने का इंतजाम किया गया। तीस सीटों के कोच में सिर्फ सात लोग सवार हो कर गए।

अचानक प्लेटफॉर्म बदलने से अफरातफरी


ट्रेन आने के 10 मिनट पहले प्लैटफॉर्म दो की जगह छह नंबर पर आने का अनाउंसमेंट हो गया। इससे यात्रियों में अफरातफरी मच गई। सबसे ज्यादा दिक्कत बुजुर्गों और महिलाओं को हुई।

एक पूर्वमंत्री भी हुए सवार

बरेली के एक पूर्व मंत्री भी उस कोच में पहुंच गए। उन्होंने अपने गनर को भेजकर कोच में सफर करने का जुगाड़ किया, जबकि टीटीई ने बताया कि वह इस कोच में सफर करने वालों से सेकंड एसी और फर्स्ट एसी के किराए का डिफरेंस चार्ज करेगा। उधर पूरे मामले में रेलवे के अफसर जवाब देने से बचते रहे।

लोग ट्रेनों में जगह के लिए भटकते रहे


दीपावली मनाकर लौटने वालों को शनिवार को ट्रेन और बसों के लिए खूब धक्के खाने पड़े। रेलवे की स्पेशल ट्रेनें और एक्स्ट्रा कोच भी नाकाफी साबित हुए। अतिरिक्त वॉल्वो और एसी बसें न चलने से बस से सफर करने वालों को भी परेशान होना पड़ा।

शनिवार को दिल्ली, मुंबई, पुणे, देहरादून, चंडीगढ़ और भोपाल की ओर जाने वाले सैकड़ों लोग परेशान हुए। इन रूट की ट्रेनों में ज्यादा भीड़ होने से वीआईपी कोटा अलॉट करने वाले अफसरों के भी पसीने छूट गए।

वीआईपी कोटे में रेलवे मिनिस्ट्री, रेलवे बोर्ड से ही इतनी डिमांड थी की डिविजन के अफसरों को सीटें ही नहीं मिल पाईं। वाराणसी, लखनऊ, गोरखपुर और छपरा से चलाई गईं स्पेशल ट्रेनों में भी लोगों को जगह नहीं मिली। रविवार को जाने वाली ट्रेनों में भी किसी भी ट्रेन के किसी भी क्लास में जगह नहीं है।

यूपीएसआरटीसी की बेबसाइट ठप, यात्री भड़के


यूपी रोडवेज की वेबसाइट www.upsrtconline.co.in काम न करने से कई दिनों से सैकड़ों लोग परेशान हैं। लोगों की शिकायत है कि बुकिंग के साथ अकाउंट से किराया तो कट रहा है लेकिन टिकट का पीएनआर नहीं निकल रहा है।

बस अड्डों के टिकट काउंटरों पर भी शनिवार को अडवांस टिकट न मिल पाने से लोगों परेशानी हुई। अफसरों की मानें तो रोडवेज हेडक्वॉर्टर के कमांड सेंटर स्थित सर्वर में तकनीकी खराबी आ जाने से यह समस्या हुई है। वेबाइसट पर अब भी दीपावली स्पेशल बसों में सीटें खाली दिख रही हैं। ]

ऑनलाइन टिकटों की बुकिंग न होने पर कैसरबाग और चारबाग बस अड्डे पहुंचे लोगों को काउंटर से अडवांस टिकट नहीं मिल पाए। इससे खफा लोगों ने चारबाग बस अड्डे पर हंगामा भी किया।

दिल्ली के लिए आज 35 स्पेशल बसें


परिवहन निगम ने दिल्ली के लिए लखनऊ 10 एसी और 25 साधारण बसें चलाने का निर्णय लिया है। आरएम एके सिंह ने बताया कि रविवार को सामान्य सेवाओं के अलावा चारबाग बस अड्डे से ये बसें हर एक घंटे पर रवाना होंगी। वेबसाइट से बुकिंग न होने पर यात्री सीधे कंडक्टर से टिकट ले सकेंगे।

Summary
Review Date
Reviewed Item
रेलवे
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *