एम. करुणानिधि की तबीयत बिगड़ी, मिलने पहुंचे कमल हसन समेत कई बड़े नेता

करुणानिधि ने हाल ही में अपना 94वां जन्मदिन भी मनाया है. ठीक 50 साल पहले 26 जुलाई को ही उन्होंने डीएमके की कमान अपने हाथ में ली थी.

नई दिल्ली : तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री और द्रविड़ मुन्नेत्र कषगम (डीएमके) प्रमुख एम. करुणानिधि की तबीयत गुरुवार (26 जुलाई 2018) रात बिगड़ गई. कावेरी हॉस्पिटल के अनुसार, 94 वर्षीय करुणानिधि का इलाज चेन्नई में उनके आवास पर ही चल रहा है.

बताया जा रहा है कि करुणानिधि यूरिनरी ट्रेक्ट इन्फेक्शन (यूटीआई) से पीड़ित हैं. हॉस्पिटल के कार्यकारी निदेशक अरविंदन सेल्वराज का कहना है कि उनके घर पर ही उन्हें अस्पताल की तरह इलाज दिया जा रहा है. एक पूरी टीम 24 घंटे उनकी निगरानी में तैनात है.

जैसे ही करुणानिधि के खराब तबीयत की खबर आई उनके आवास पर समर्थकों का तांता लग गया. समर्थकों के अलावा राज्य के दिग्गज नेता भी उनका हाल जानने घर पहुंचे.

तमिलनाडु के उपमुख्यंत्री ओ. पन्नीरसेल्वम कई मंत्री और AIADMK के वरिष्ठ नेताओं के साथ करुणानिधि का हालचाल जानने पहुंचे. इस दौरान उन्होंने डीएमके के कार्यकारी अध्यक्ष एमके स्टालिन से भी मुलाकात की. ऐसा पहली बार है कि जब AIADMK के नेता करुणानिधि के गोपालापुरम आवास पर पहुंचे हों.

कावेरी अस्पताल की मेडिकल बुलेटिन के अनुसार, बढ़ती उम्र के कारण ही करुणानिधि की तबीयत बिगड़ी है. उन्हें बार-बार बुखार आ रहा है. बताया जा रहा है कि उन्हें यूरिन इन्फेक्शन हुआ था. करुणानिधि से मुलाकात कर आए राज्य सरकार में मंत्री डी.

जयाकुमार ने कहा कि उनकी हालत में सुधार हो रहा है, वह जल्द ही ठीक हो जाएंगे. आपको बता दें कि करुणानिधि ने हाल ही में अपना 94वां जन्मदिन भी मनाया है. ठीक 50 साल पहले 26 जुलाई को ही उन्होंने डीएमके की कमान अपने हाथ में ली थी.

शुक्रवार को भी करुणानिधि से मिलने वालों का तांता लग सकता है. बताया जा रहा है कि अभिनेता से नेता बने कमल हासन भी उनके घर पहुंचे. आपको बता दें कि 18 जुलाई को ही करुणानिधि को अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जिसके बाद उन्हें छुट्टी मिल गई थी.

गौरतलब है कि करुणानिधि पांच पर राज्य के मुख्यमंत्री बन चुके हैं, आज के समय में उनकी गिनती देश के दिग्गज नेताओं में होती है. अभी तक वह जिस भी सीट पर चुनाव लड़े हैं, उन्होंने हमेशा जीत दर्ज की है. करुणानिधि ने 1969 में पहली बार राज्य के सीएम का पद संभाला था, इसके बाद 2003 में आखिरी बार मुख्यमंत्री बने थे.

Back to top button