मध्य प्रदेश में दिख रहा बर्ड फ्लू का सबसे अधिक असर, स्वास्थ्य विभाग अलर्ट पर

23 दिसंबर से अबतक राज्य में 400 से अधिक ऐसी पक्षियों की मौत हो चुकी

नई दिल्ली: मध्य प्रदेश, केरल समेत कई राज्यों में बर्ड फ्लू ने दस्तक दी है. अचानक इन राज्यों में पक्षियों की मौत हुई है, जिसके बाद स्वास्थ्य विभाग अलर्ट पर है. बर्ड फ्लू का सबसे अधिक असर मध्य प्रदेश में दिख रहा है, यही कारण है कि राज्य सरकार ने प्रभावित इलाकों में अधिक सतर्कता बढ़ा दी है.

पहले इंदौर में कौवों की मौत के बाद हलचल मची, तो अब मंदसौर में भी ऐसे ही मामले सामने आए हैं. मंदसौर, आगर मालवा इलाके में मृत कौवों में H5N8 वायरस की पुष्टि हो गई है. आंकड़ों की मानें, तो 23 दिसंबर से अबतक राज्य में 400 से अधिक ऐसी पक्षियों की मौत हो चुकी है.

प्रभावित इलाकों में लोगों की जांच

राज्य सरकार ने करीब दस जिलों में अलर्ट जारी कर दिया है. साथ ही जहां सबसे अधिक खतरा है वहां की स्पेशल तैयारी है. इंदौर, मंदसौर, मालवा के जिस इलाके में मृत कौवों में फ्लू के लक्षण मिले हैं, उसके एक किमी. के दायर में अब लोगों की भी जांच की जाएगी.

राज्य सरकार ने इन इलाकों में स्वास्थ्य टीम को रवाना किया है, जहां लोगों की जांच हो रही है. खांसी, जुकाम जैसी बीमारी होने पर कोरोना टेस्ट तक किया जा रहा है. अभी तो सिर्फ पक्षियों में फ्लू फैला है, ऐसे में ये इंसानों में तबाही मचाना शुरू करे उससे पहले ही सरकार सभी तैयारी करना चाहती है.

आपको बता दें कि मध्य प्रदेश के इंदौर, मंदसौर, आगर मालवा के अलावा उज्जैन, सिहोर, देवास, गुना, शाजापुर, खरगौन और नीमच में अलर्ट जारी किया गया है. यहां से कुछ सैंपलों को जांच के लिए भी भेजा गया है. हालांकि, अलर्ट के बीच सरकार ने कहा है कि अगर कोई सही से पका हुआ मीट खाना चाहता है तो उसे दिक्कत नहीं है.

मध्य प्रदेश के अलावा इन राज्यों में अलर्ट

सिर्फ मध्य प्रदेश में ही बर्ड फ्लू का असर नहीं दिखा है, बल्कि देश में ऐसे दस राज्य हैं जहां अलर्ट जारी कर दिया गया है. मध्य प्रदेश, केरल, राजस्थान, गुजरात, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, पंजाब जैसे राज्यों में अबतक बर्ड फ्लू से संबंधित मामले सामने आ चुके हैं.

केरल में तो बड़े स्तर पर कौवों, मुर्गियों को मारना भी शुरू हो गया है. यूपी में भी सीएम योगी आदित्यनाथ ने स्वास्थ्य विभाग को किसी भी तरह के खतरे से निपटने के लिए तैयार रहने को कहा है.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button