मध्यप्रदेश

मध्य प्रदेशः बैतूल के मुलताई में पारधी युवक की मौत, पत्नी ने पुलिस पर लगाया पिटाई का आरोप

आयोग के द्वारा जारी जानकारी के अनुसार मामला यह था कि ग्राम चैथिया के पारधी ढ़ाना में रहने वाले शंकर उर्फ नागराज पारधी 35 साल सोमवार रात खाना खाकर सो गया था.

भोपालः बैतूल जिले के मुलताई में प्रभातपटटन रोड पर ग्राम चैथिया के समीप स्थित पारधी ढाना में रहने वाले युवक की मौत पर पत्नी सहित अन्य परिजनों ने पुलिस द्वारा की गई पिटाई से युवक की मौत होने के आरोप लगाते हुए जमकर हंगामा मचाया इस मामले को लेकर म.प्र. मानव अधिकार आयोग ने पुलिस अधीक्षक बैतूल से जवाब मांगा है.

आयोग के द्वारा जारी जानकारी के अनुसार मामला यह था कि ग्राम चैथिया के पारधी ढ़ाना में रहने वाले शंकर उर्फ नागराज पारधी 35 साल सोमवार रात खाना खाकर सो गया था. रात डेढ़ बजे के दरमियान शंकर को घबराहट होने लगी तो वह पानी पीकर सो गया. मंगलवार सुबह 6 बजे पत्नी बिजली ने पति शंकर की आवाज लगाई तो वह नहीं उठा पास जाकर देखा तो शंकर की मौत हो गई थी. बिजली ने पड़ोसियों को जानकारी दी और अपने पति की मौत की वजह प्रभातपटटन चौकी में पदस्थ पुलिसकर्मियों द्वारा बीते 17 अक्टूबर को पति के साथ की गई मारपीट से आई चोट होना बताई.

शंकर की पत्नी और पुत्री का आरोप था कि पुलिस द्वारा पिटाई के बाद से शंकर की तबीयत खराब चल रही थी. इसके बाद पारधी ढ़ाना में रहने वाले पारधी परिवारों ने हंगामा मचाते हुए जब तक मारपीट करने वाले पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई नहीं होती तब तक मृतक शंकर का अंतिम संस्कार नहीं करने का निर्णय लिया.

हंगामा की सूचना पर एसडीओपी, थाना प्रभारी पुलिस बल के साथ पारधी ढ़ाना पहुंचे. मृतक के परिजन को समझाईश देकर शव पोस्टमार्टम के लिए भिजवाया. साथ ही एसडीओपी ने मृतक शंकर की पत्नी और परिजनों को समझाइश दी की इस मामले की निष्पक्षता से जांच की जाएगी. इस मामले में आयोग ने पुलिस अधीक्षक, बैतूल से एक माह में प्रतिवेदन मांगा है.

सरदारपुर उपजेल में कैदी की मौत: धार जिले की सरदारपुर उपजेल में रविवार रात में एक कैदी की मौत हो गई. तबीयत खराब होने पर सरदारपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र पर लाया था. जहां डाक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया. कैदी की मौत के बाद परिजन ने जांच की मांग की. जिस पर न्यायाधीश तथा नायब तहसीलदार द्वार अस्पताल पहुंचे.

कैदी हीरालाल पिता किशनलाल चौहान निवासी राजगढ़ हत्या के मामले में बंद था. उपजेल के जेलर प्रदीप डामोर ने बताया रात करीब 11.50 बजे तबीयत खराब होने पर अस्ताल ले जाया गया था. सोमवार सुबह दो डाक्टरों की पैनल ने पीएम कर शव परिजन को सौप दिया गया. मामले में सरदारपुर विधायक ने कड़ी कार्यवाही की मांग की है. इस मामले में आयोग ने पुलिस महानिदेशक, जेल विभाग, म.प्र. शासन, उप जेल अधीक्षक, सरदारपुर एवं अन्य संबंधित अधिकारियों से प्रतिवेदन मांगा है.

अफसरों की लापरवाही के चलते कोलार की मुख्य सड़क पर जस के तस बने हुए है गड्ढे: भोपाल शहर के उपनगर कोलार मेन रोड़ से गुजरने वाले एक लाख से अधिक लोग रोजाना परेशान हो रहे है. लोक निर्माण विभाग के अफसरों की लापरवाही से कोलार रोड़ पर गड्ढों की स्थिति जस की तस बनी हुई है. रात के समय अंधेरा होने से इन गड्ढों में आए दिन छोटे वाहन फंसकर दुर्घटनाग्रस्त हो रहे है. इसके बाद भी अफसर इस ओर ध्यान नहीं दे रहे हैं. इस मामले में आयोग ने लोक निर्माण विभाग के इंजीनियर इन चीफ एवं नगर निगम आयुक्त, भोपाल से प्रतिवेदन मांगा है.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button