मध्य प्रदेश: विधानसभा चुनाव के लिए प्रचार थमा, 28 नवंबर को मतदान

भोपाल।

मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए पिछले एक पखवाड़े से चल रहा चुनावी शोर सोमवार शाम 5 बजे थम गया। अब 28 नवंबर को मतदान से पहले प्रत्याशी घर-घर जाकर जनसंपर्क करेंगे। प्रचार खत्म होने से पहले सभी दलों ने मतदाताओं को रिझाने में अपनी पूरी ताकत झोंकी। बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने अपनी रैलियों में ‘भारत माता की जय’ के नाम पर कांग्रेस को कठघरे में खड़ा किया। वहीं, कांग्रेस ने शिवराज सरकार के कथित भ्रष्टाचार का मुद्दा उठाया। राज्य की 230 विधानसभा सीटों पर 2899 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं।

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने भोपाल में प्रेस कॉन्फ्रेंस करके शिवराज सरकार पर गंभीर आरोप लगाए। उन्होंने मध्य प्रदेश सरकार के ही आंकड़े देकर कहा कि शिवराज सिंह चौहान द्वारा किए जा रहे दावे झूठे हैं। उन्होंने कहा, ‘खुद को मामा बताने वाले शिवराज ने लाडली लक्ष्मियों के साथ धोखा किया है।’ कांग्रेस प्रवक्ता ने फसल बीमा और किसानों से जुड़े अन्य मुद्दे उठाते हुए कहा कि बीजेपी सरकार ने लोगों के साथ धोखा किया है, यह बात मैं नहीं खुद सरकार के आंकड़े कह रहे हैं।

आंकड़ों को लेकर भिड़े कांग्रेस और बीजेपी

बीजेपी नेताओं द्वारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के माता-पिता के अपमान का मुद्दा उठाए जाने के बारे में कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा कि प्रधानमंत्री सहित सभी बीजेपी नेता गलत बोलकर लोगों को गुमराह करने की कोशिश कर रहे हैं। उन्होंने दावा किया कि इस बार जनता कांग्रेस को चुनने जा रही है। उधर बीजेपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष प्रभात झा ने सुरजेवाला द्वारा दिए गए आकंड़ों को गलत बताया। उन्होंने कहा, ‘मैं सुरजेवाला से सार्वजनिक बहस करने को तैयार हूं। उन्होंने प्रदेश की गरिमा को चोट पहुंचाई है।’

जब प्रभात झा से यह कहा गया कि जिन आंकड़ों का उल्लेख सुरजेवाला ने किया है, वे आंकड़े सरकारी पोर्टल पर दर्ज हैं तो उन्होंने कहा, ‘मैं पोर्टल के आंकड़ों को नहीं मानता।’ प्रभात झा ने राज बब्बर और विलास मुत्तेमवार द्वारा दिए गए बयानों का उल्लेख किया और मोदी के मां-बाप का अपमान करने का आरोप लगाया। जब उनसे पूछा गया कि कांग्रेसियों ने ऐसा कौन शब्द इस्तेमाल किया, जो अपमानजनक है तो उन्होंने कहा कि इस अपमान का बदला प्रदेश की जनता कांग्रेस से लेगी।

5.04 करोड़ मतदाता, 2899 उम्मीदवार

मध्य प्रदेश बीजेपी के प्रभारी उपाध्यक्ष विनय सहस्त्रबुद्धे ने कहा कि हम चाहते थे कि इस चुनाव में विकास मुद्दा बने लेकिन विपक्ष ने प्रदेश में विभाजन की बात की, अनर्गल बातें कीं। उन्होंने दावा किया कि मध्य प्रदेश में बीजेपी की सरकार बनेगी। बता दें कि मध्य प्रदेश में कुल 5 करोड़ 4 लाख 95 हजार मतदाता हैं। इनके लिए कुल 65 हजार 341 मतदान केंद्र बनाए गए हैं। कुल 230 विधानसभा सीटों के लिए 2899 प्रत्याशी अपनी किस्मत आजमा रहे हैं।

शिवराज के खिलाफ अरुण यादव

बीजेपी ने सबसे ज्यादा 230 प्रत्याशी उतारे हैं। कांग्रेस 229 और बीएसपी 227 सीटों पर चुनाव लड़ रही है। आप 208, सपाक्स 109, गोंगपा 73 और समाजवादी पार्टी 51 सीटों पर चुनाव लड़ रही है। जहां तक बड़े प्रत्यशियों का सवाल है कांग्रेस के प्रमुख नेता चुनावी लड़ाई में नही उतरे हैं। कांग्रेस की ओर से सुरेश पचौरी, अरुण यादव और अजय सिंह मैदान में उतरे हैं। पूर्व मंत्री अरुण यादव मुख्यमंत्री शिवराज सिंह के खिलाफ लड़ रहे हैं। शिवराज के अलावा सांसद अनूप मिश्रा, वित्त मंत्री जयंत मलैया, विधानसभा अध्यक्ष सीताशरण शर्मा और उमाशंकर गुप्ता आदि प्रमुख नेता मैदान में हैं।

1
Back to top button