मध्यप्रदेश

विधानसभा में मध्यप्रदेश विनियाेग विधेयक 2020 और अनुदान मांगे पारित

सदन की कार्यवाही अनिश्चितकाल के लिये स्थगित

भोपाल। मध्यप्रदेश में आज एक दिनी विधानसभा सत्र आयोजित किया गया, सदन की कार्यवाही शुरू होने से पहले आज विस अध्यक्ष, सीएम शिवराज और संसदीय कार्य मंत्री ने जांच कराकर सदन में प्रवेश किया। शुरूआत में विधानसभा की कार्यवाही दिवंगतों के सम्मान में 5 मिनट के लिये स्थगित की गई। उसके बाद संसदीय कार्य मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने अध्यादेशों/पत्राें को पटल पर रखा।

सदन में विस अध्यक्ष द्वारा विधानसभा सदस्यता से त्याग पत्र दिये सदस्याें की सूचना सदन काे दी गई। विस अध्यक्ष ने सदन काे सूचित किया कि वित्तमंत्री की अनुपस्थित पर संसदीय कार्य मंत्री उनके कार्य संपादित करेंगे। वहीं सदन में आज प्रतिपक्ष ने निजी अस्पताल में हो रही लापरवाही का मुद्दा उठाया। विधानसभा में पूर्व CM कमलनाथ ने कोरोना का मुद्दा उठाया, कोरोना पर चर्चा कराने की मांग की।

विधानसभा में धन विधेयक/विनियाेग विधेयक सदन में प्रस्तुत किए गए, जिसके बाद मध्यप्रदेश विनियाेग विधेयक 2020 पारित हो गया, वहीं संसदीय कार्य मंत्री ने समस्त विभागाें की अनुदान मांगाें के प्रस्ताव को एक साथ प्रस्तुत किया, जहां गाेविंद सिंह मुख्य सचेतक कांग्रेस विधायक दल ने तथा नेता प्रतिपक्ष ने चर्चा कराने का अनुरोध किया। जिस पर संसदीय कार्य मंत्री ने सर्वदलीय बैठक का उल्लेख किया, वहां इन बिन्दुओं पर चर्चा हुई है, आपत्ति पर विचार न करते अनुदान मांगे पारित की गई। विधानसभा की कार्यवाही अनिश्चित काल के लिये स्थगित कर दी गई।

सदन में CM शिवराज सिंह ने अपने संबोधन में कहा कि विपक्ष भी कोरोना से निपटने में सहयोग प्रदान करे, हम सब मिलकर इस महामारी से लड़ें और उसे परास्त करें। राज्य में रिकवरी रेट 77% है, आवश्यक ऑक्सीजन बेड और व्यवस्थाएं सुनिश्चित की गई हैं। कोरोना की स्थिति की प्रतिदिन समीक्षा खुद कर रहे हैं, उपचार और रोगियों की देखरेख के सभी उत्तम प्रबंध किए गए हैं।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button