राष्ट्रीय

महाराष्ट्र में कीटनाशकों के प्रयोग से 18 किसानों की मौत पर मचा बवाल, 800 की हालत गंभीर

किसान अपनी फसल की सुरक्षा के लिए कीटनाशकों का प्रयोग करते ही हैं लेकिन पिछले कुछ समय से महाराष्ट्र के विदर्भ क्षेत्र के अकोला जिले में कीटनाशकों के छिड़काव के दौरान कई किसानों की मौत हो गई है। यवतमाल में कीटनाशकों के दुष्प्रभाव की वजह से 18 लोगों की मौत हो चुकी है और 800 किसान हॉस्पिटल में हैं।

जबकि 12 और मौतों की जांच की जा रही है कि क्या वो भी कीटनाशकों के दुष्प्रभाव की वजह से हुईं है। महाराष्ट्र सरकार ने इस समस्या का कारण ढूंढने के लिए एक हाई लेवल समिति का गठन किया है, और छिड़काव के वक्त कुछ सुरक्षा साधन को अनिवार्य किया गया है।

हॉस्पिटल में बीमार पड़े 800 किसान एक ही तरह की समस्या से पीड़ित हैं। उन्हें डायरिया, उल्टी, पेट दर्द और आंखों की रोशनी में समस्या का सामना करना पड़ रहा है। ये सारे मामले यवतमाल से सामने आ रहे हैं जिसे विदर्भ की किसान आत्महत्या की राजधानी कहते हैं।

जानकारी के अभाव में किसान कीटनाशकों के प्रयोग में सावधानी नहीं बरतते जिसका परिणाम उन्हें अपनी जान देकर चुकाना पड़ता है, जानकारी देने का काम कृषि विभाग का होता है। लेकिन उन्होंने क्या काम किया इस पर सवाल उठ रहे हैं।

3 अक्टूबर को सरकार ने मरने वाले किसानों के घर वालों को 2 लाख रुपये मुआवजा देने का ऐलान किया था । लेकिन परिवारों का कहना है कि सरकार को 10 लाख रुपये मुआवजा देना चाहिए। वहीं राज्य के कृषि मंत्री सदाभाऊ खोट ने कहा कि जिम्मेदार अधिकारियों को उत्तरदायी बनाया जाएगा।

Summary
Review Date
Reviewed Item
कीटनाशकों
Author Rating
51star1star1star1star1star
Tags

Related Articles

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *