महाराष्ट्र : थ्री डायमेंशन सुपर इंपोजीशन के जरिये आरोपियों का चला पता

पुलिस ने थ्रीडी तकनीक का इस्तेमाल कर लाश का चेहरा किया तैयार

मुंबई।

महाराष्ट्र के मुंबई स्थित अंबरनाथ के जावसाई में पहाड़ों में सुनसान जगह पर अप्रैल महीने में एक युवक की सिर धड़ से अलग पुलिस को शव मिली थी। लाश की पहचान करने में पुलिस ने थ्री डायमेंशन सुपर इंपोजिशन तकनीक का इस्तेमाल कर लाश की शिनाख्त कर शख्स की हत्या करने वाले आरोपियों को धर दबोचा है।

पुलिस ने थ्रीडी तकनीक का इस्तेमाल कर लाश का चेहरा तैयार किया, जिससे लाश की पहचान हो सकी। थ्रीडी की मदद से 9 महीने पहले हुई घटना को पुलिस उजागर करने में कामयाब रही।

अंबरनाथ के पश्चिम में जावसई पहाड़ में काफी सारे लोग टहलने के लिए आते हैं। एक युवक को बिना सिर की लाश पहाड़ पर दिखाई दी थी। बिना सिर की लाश देखकर युवक के होश उड़ गए थे, उसने तुरंत इस घटना की जानकारी पुलिस को दी थी।

घटना की सूचना पाकर मौके पर पहुंची पुलिस जांच में जुट गई। पुलिस को एक शख्स की बिना सिर की लाश मिली और कुछ ही दूरी पर सर पड़ा मिला था। लाश के सड़ जाने की वजह से चेहरा काफी खराब हो गया था।

पुलिस के पास इस केस को हल करने के लिए कोई भी सबूत नहीं थे। अंबरनाथ व आसपास के इलाके में युवक के गुमशुदा होने की शिकायत पुलिस स्टेशन में भी नहीं थी। इसलिए इस केस की जांच करना पुलिस के लिए किसी चुनौती से कम नहीं थी।

जांच के दौरान लाश की पहचान करने के लिए मुंबई के केईएम हॉस्पिटल के विशेषज्ञ डॉ. हरीश पाठक की मदद ली गई थी। पाठक ने थ्री डायमेंशन सुपर इम्पोजिशन तकनीक का इस्तेमाल कर लाश के सिर के आधार के पर एक चेहरा तैयार किया।

किसी अपराध को हल करने में पहली बार इस तकनीक का इस्तेमाल किया गया। तकनीक व स्केच के जरिए जो चेहरा तैयार किया गया, उसका स्केच जाहिर कर पुलिस ने अपने खबरियों को इसकी जानकारी निकालने को कहा। एक खबरी द्वारा उन्हें जानकारी मिली कि अंबरनाथ के महेंद्रनगर में बिन्द्रेश प्रजापति का यह चेहरा है।

शव की पहचान करने पर पता चला की शख्स अप्रैल माह से ही लापता है, उसकी पत्नी सावित्री ने बिन्द्रेश के लापता होने की रिपोर्ट पुलिस स्टेशन में दर्ज नहीं करवाई थी। बिन्द्रेश और सावित्री को दो लड़के हैं।

पति के मरने के बाद पत्नी घर का खर्च कैसे चला रही थी और उसे कौन मदद कर रहा था। पुलिस ने इसी बात को लेकर जांच शुरू की। मृतक के घर में आने-जानेवालों पर पुलिस ने नजर रखना शुरु कर दिया, जिसमें यह बात सामने आई कि किसनकुमार कनोजिया मृतक की पत्नी के संपर्क में था।

पुलिस ने शक के आधार पर सावित्री को हिरासत में लिया। पुलिस पूछताछ में अपना अपराध कबूल करते हुए सावित्री ने बताया कि किसन कुमार और उसके बीच अनैतिक संबंध थे।

जिसकी भनक बिन्द्रेश को लग गई थी और वह उनके प्यार के बीच अड़चन बन गया था। दोनों ने राजेश यादव नामक शख्स की मदद से बिन्द्रेश को पहाड़ पर ले जाकर शराब पिलाई और शराब के नशे में उसकी हत्या कर दी। इस मामले में पुलिस ने तीन लोगों को गिरफ्तार किया है।

advt
Back to top button