महाराष्ट्र के नए समीकरण से कुछ लोगों के पेट में दर्द -शिवसेना

शिवसेना का मुखपत्र सामना के जरिये बीजेपी पर कटाक्ष

मुंबई:नवनिर्वाचित महाराष्ट्र विधानसभा में 105 विधायकों के साथ भाजपा सबसे बड़ी पार्टी है. जबकि शिवसेना के पास 56, राकांपा के पास 54 और कांग्रेस के पास 44 विधायक हैं.

राज्यपाल ने बारी-बारी से तीनों दलों को सरकार बनाने का न्योता दिया, लेकिन कोई भी पार्टी बहुमत नहीं जुटा सकी. इसके बाद राज्य में राष्ट्रपति शासन लगा दिया गया है. हालांकि, राज्य के राजनीतिक दलों में सत्ता को लेकर बैठकों का दौर जारी है.

इसी कड़ी में शिवसेना ने अपने सहयोगी रहे भारतीय जनता पार्टी को एक बार फिर कटाक्ष करते हुए अपने मुखपत्र सामना के जरिये कहा कि महाराष्ट्र के नए समीकरण से कुछ लोगों के पेट में दर्द हो रहा है.

एक समय अपना भाई कहने वाली सेना ने बीजेपी को 105 की पार्टी और पागल करार कर दिया. सामना ने लिखा कि जब से खबर सामने आई है कि शिवसेना की सरकार बनने वाली है तब से कुछ लोगों के पेट में दर्द शुरू हो गया है.

सामना का कहना है कि भाजपा को मोदी के नाम पर वोट मिलते रहे हैं ऐसे में इस तरह की हरकतों से मोदी जी का है नाम खराब हो रहा है. सामना ने सवाल उठाया कि राज्यपाल के समक्ष सरकार बनाने में असमर्थ रही बीजेपी अचानक राष्ट्रपति शासन लागू होने के बाद सरकार बनाने का दावा कैसे कर रही है?

बीजेपी के सत्ता मोह को सेना ने पागलपन करार दिया है, और कहा कि पागलों की संख्या बढ़ने राज्य की प्रतिष्ठा में बाधक है.

Tags
Back to top button