नवरात्रि में बनाकर खाएं कूटू की कचौरी

कूटू की कचौरी जिसको हम सिंघाड़े के आटे की कचौरी के नाम से भी जानते हैं

नवरात्रि की शुरुआत आज से हो चुकी है। वहीं लोग आज से नौ दिनों तक श्रद्धा भाव से मां की उपासना के साथ नौ दिनों तक व्रत करते है।

व्रत के दौरान लोग फलाहार या फल खाते है, लेकिन नौ दिनों तक एक तरह के फलाहार करके अगर आप बोर हो गए है तो आप कुछ नया भी ट्राई कर सकते हैं। वहीं आप कूटू की कचौरी जिसको हम सिंघाड़े के आटे की कचौरी भी कहते हैं।

आवश्यक सामग्री :

सिंघाड़ा या कुटू का आटा – 200 ग्राम,

आलू – 04 (उबले हुए),

हरी मिर्च – 01 (बारीक कतरी हुई),

अदरक – 01 टुकड़ा (कद्दूकस किया हुआ),

काली मिर्च – 1/4 छोटा चम्मच,

आमचूर – 1/4 छोटा चम्मच,

सेंधा नमक – 01 छोटा चम्मच,

तेल – तलने के लिये।

कूटू कचौरी बनाने की विधि :

कुट्टू की कचौरी रेसिपी इन हिंदी के लिए सबसे पहले सिंघाड़े का आटा छान लें। फिर उसमें थोड़ा सा सेंधा नमक और एब बड़ा चम्मच तेल डाल कर गूंथ लें।

इसके बाद आलू को छील लें। उसमें हरी मिर्च, अदरक, काली मिर्च, अमचूर पाउडर और आधा छोटा चम्मच सेंधा नमक डाल कर अच्छी तरह मिला लें।

अब कढ़ाई में तेल डाल कर गरम करें। जब तक तेल गरम हो रहा है, गुंथे हुए आटे से छोटी सी लोई लेकर उसे गोल बनाएं और फिर हथेली से दबा कर चपटा कर लें।

अब एक चम्मच आलू का मिश्रण आटे पर रखें और उसे चारों ओर से उठा कर बंद कर दें। फिर आलू भरी लोई को हथेलियों से दबा चपटा कर लें और फिर बेल कर पूरी के आकार का बना लें।

कढ़ाई का तेल गरम होने पर उसमें बेली हुई पूरी डालें और उसे पलट-पलट कर ब्राउन होने तक सेंक लें।

लीजिए कूटू कचौरी बनाने की विधि कम्‍प्‍लीट हुई। अब गर्मा-गरम कूटू की कचौरी को सर्विंग प्‍लेट में निकालें और दही या फलाहारी चटनी के साथ इसका आनंद लें।

साथ ही आप हमारी पॉपुलर व्रत के आलू रेसिपी, व्रत के चावल रेसिपी, व्रत की चटनी रेसिपी, साबूदाना लड्डू रेसिपी, शकरकंद हलवा रेसिपी भी ट्राई करें। ये रेसिपी भी आपको की तरह जरूर पसंद आएंगी।

Back to top button