राजनीतिराष्ट्रीय

व्हाट्सएप मामले पर टिप्पणी करते हुए मोदी सरकार पर बरसीं ममता बनर्जी

ओवैसी ने भी केंद्र सरकार पर साधा निशाना

कोलकाता:पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने व्हाट्सएप मामले पर टिप्पणी करते हुए केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर आरोप लगाया और उन्होंने दावा किया कि उनका भी फोन टेप हो रहा है.

ममता ने कहा कि उनकी सरकार इस बात को अच्छी तरह से जानती है कि सरकार निजता का उल्लंघन कर रही है. ममता ने कहा, ‘अब कुछ भी सुरक्षित नहीं है, व्हाट्सएप भी नहीं, पहले हम सोचा करते थे कि व्हाट्सएप से जासूसी नहीं की जा सकती है, लेकिन अब व्हाट्सएप को भी छोड़ा नहीं गया, मैं चाहती हूं कि पीएम नरेंद्र मोदी इस बात की जांच करवाएं.’

उन्होंने कहा कि सभी आईएएस/आईपीएस अधिकारी और राजनेताओं के फोट टेप किए जा रहे हैं, किसी को नहीं छोड़ा जा रहा है. उन्होंने कहा कि यह केंद्र और दो राज्य सरकारों के इशारे पर हो रहा है, मैं राज्यों का नाम नहीं लूंगी, लेकिन ये दोनों बीजेपी शासित राज्य है.

वहीं, एआईएमआईएम के चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने व्हाट्सएप की प्राइवेसी में सेंध पर बड़ा निशाना लगाते हुए केंद्र सरकार पर निशाना साधा. ओवैसी ने कहा कि नागरिकों की प्राइवेसी की रक्षा सरकार की जिम्मेदारी है.

इजराइल के सिक्योरिटी फर्म्स पर सरकार की कड़ी निगरानी

असदुद्दीन ओवैसी ने ट्वीट कर कहा कि कहा कि इजराइल के सिक्योरिटी फर्म्स पर सरकार की कड़ी निगरानी रहती है. ऐसे बोर्ड्स और फर्म्स में सरकार के प्रतिनिधि बैठते हैं. प्रधानमंत्री कार्यकालय और बेंजामिन नेतन्याहू के बीच प्यार एक तरफा लग रहा है. इजराइली सरकार हमारी मदद करने नहीं जा रही है.

केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री रविशंकर प्रसाद को टैग करते हुए एक अन्य ट्वीट में ओवैसी ने कहा कि आपने कहा था कि आप एक संवेदनशील व्यक्ति हैं. आप आर्थिक मंदी और बॉक्स ऑफिस कलेक्शन के बयान को वापस ले चुके हैं. इसलिए पूरी सवेंदनशीलता के साथ मैं आपसे सवाल करना चाहता हूं कि क्या हो रहा है. इस पूरे मामले में सरकार की जानकारी और शामिल होने की हद क्या है?

इजरायली कंपनी के द्वारा Pegasus नाम के स्पाईवेयर का जिक्र करते हुए ओवैसी ने रविशंकर प्रसाद से कहा कि यह सही है कि 5 सर्विस प्रोवाइडर Pegasus द्वारा खरीदे गए. क्या आप व्हाट्सएप पर पूरे मामेल की जांच के लिए एफआईआर दर्ज करेंगे? क्या आप सर्विस प्रोवाइडर्स के नाम का खुलासा करेंगे, जिसके बाद एफआईआर दर्ज हो सके.

जासूसी मामले पर सरकार के निशाने पर आने के बाद व्हाट्सएप की ओर से बयान जारी किया गया है. व्हाट्सएप के प्रवक्ता ने कहा कि यूजर्स की निजता और सुरक्षा हमारी प्राथमिकता है. मई माह में हमने सुरक्षा से जुड़ा मामला जल्द सुलझा लिया था और इसे लेकर भारत सरकार के अधिकारियों को सूचित किया था.

प्रवक्ता ने कहा कि हम निजता की सुरक्षा को लेकर भारत सरकार की चिंता से सहमत हैं. इसलिए कंपनी ने मामले की गंभीरता को समझते हुए कठोर कदम उठाए हैं. हम पूरी कोशिश कर रहे हैं कि किसी भी यूजर्स के डेटा के साथ किसी तरह का खिलवाड़ ना हो. व्हाट्सएप यूजर्स के मैसेज की सुरक्षा के लिए प्रतिबद्ध है.

Tags
Back to top button