विजय के बाद भी ममता में नम्रता नहीं आई : बृजमोहन

तृणमूल कांग्रेस ने ऐसा उदाहरण प्रस्तुत किया जिससे प्रजातंत्र की नींव हिल गई : श्रीचन्द

रायपुर : पूर्व मंत्री व विधायक बृजमोहन अग्रवाल ने कहा कि लोकतंत्र के पर्व के बाद यह लोकतंत्र की हत्या है। उन्होंने कहा कि विजय से विनम्रता आती है परंतु ममता में नम्रता नहीं आई। चुनाव के दौरान लगभग 150 के आसपास कार्यकर्ताओं की हत्या हुई। अब चुनाव के बाद भी भाजपा कार्यकर्ताओं पर हमले जारी हैं। उन्होंने राज्यपाल व चुनाव आयोग से इस पर संज्ञान लेकर कार्रवाई करने की मांग की है। पूर्व मंत्री राजेश मूणत ने भी भाजपा कार्यकर्ताओं पर हमले की निंदा की है।

श्रीचंद सुंदरानी ने कहा

भाजपा शहर जिला अध्यक्ष श्रीचंद सुंदरानी ने कहा कि चुनाव में विजय और पराजय एक सिक्के के दो पहलू हैं। परंतु उसके बाद लोकतंत्र का मखौल उड़ाकर टीएमसी के लोग जो भाजपा कार्यकर्ताओं पर हमले कर रहे हैं, वह निंदनीय है। प. बंगाल ने देश के सामने का ऐसा उदाहरण प्रस्तुत किया है जिससे प्रजातंत्र की नींव हिल गई है। उन्होंने सभी राजनीतिक दलों से अनुरोध किया है कि इस प्रकार के कृत्य की कड़े शब्दों में निंदा करने का साहस दिखाए।

भाजपा प्रवक्ता संजय श्रीवास्तव ने कहा

भाजपा प्रवक्ता संजय श्रीवास्तव ने कहा कि यह हमला भाजपा कार्यकर्ताओं पर नहीं बल्कि लोकतंत्र की आस्था पर है। उन्होंने मांग की है कि टी एम सी के गुंडों को सलाखों के पीछे डाला जाय। उन्होंने बंगाल में हमलों में मृतक भाजपा कार्यकर्ताओं को श्रद्धांजलि दी। भाजपा जिला महामंत्री ओंकार बैस ने कहा ममता बनर्जी की व्यक्तिगत हार की खीझ वे भाजपा पर हमले करवा कर निकाल रही हैं।

भाजपा मीडिया प्रभारी अनुराग अग्रवाल ने बताया कि भाजपा एकात्म परिसर में धरने में दिलीप सिंह होरा, अकबर अली, युवा मोर्चा जिला अध्यक्ष गोविंदा गुप्ता, राहुल राव, अर्पित सूर्यवंशी, गुंजन प्रजापति अजय सोनी, आलोक शर्मा, दिनेश सुंदरानी, तरुण सोनू यादव उपस्थित थे। रायपुर जिले के सारे पदाधिकारियों कार्यकर्ताओं ने अपने घरों के सामने धरना प्रदर्शन कर ममता बनर्जी का विरोध जताया। धरना के अंत में तृणमूल कांग्रेस कार्यकर्ताओं के हमले में दिवंगत हुए सभी कार्यकर्ताओं को श्रद्धांजलि भी दी गई।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button