मध्यप्रदेश

पुलिस की गुंडागर्दी का शिकार हुए सुरक्षा व स्वयंसेवी संस्थान के प्रबंध संचालक

गाड़ी को सील करवा देने की धमकी

ब्युरो चीफ : विपुल मिश्रा

भोपाल : बता दें की कोरोना महामारी के इस दौर में जहाँ पुलिस प्रशासन के कई मार्मिक व दिलेरी के किस्से-खबरे अक्सर मीडिया में प्रकाशित होते रहते है

वहीं भोपाल के एक एस आई द्वारा अपने सहकर्मियों के साथ मिलकर एक सुरक्षा व स्वयंसेवी संस्थान के प्रबंध संचालक से बदसलूकी की घटना सामने आ रही है

बता दें की भोपाल के ही अमित विक्रम सिंह जो कि अपनी एक निजी सिक्योरिटी एजेंसी के साथ-साथ एक स्वयं सेवी संस्थान का संचालन करते है,जिनके कई कर्मचारी इस महामारी के दौर में भी एटीएम व बैंको में दिन रात सिक्योरिटी गार्ड के पद पर सेवाएं दे रहे है ऐसे में घर परिवार से दूर इन कर्मचारियों को इस लॉकडाउन के दौर में मूलभूत आवश्यकताओं में नाश्ता पानी की तकलीफ हो रही है जिसके कारण अमित विक्रम सिंह ने अपने कर्मचारियों के लिए नाश्ता व सेनेटाइजर देने का निर्णय किया और सरकार के द्वारा निर्देशित सारे नियमो को पालन करते हुए उन्होंने खुद जाकर उन्हें ये मूलभूत आवश्यकतओं को पहुचाने के लिए 28 जुलाई को अपनी ऑडी कार से निकले थे।

गाड़ी को सील करवा देने की धमकी

मिली जानकारी के मुताबिक जैसे ही वह कुछ दूर पहुँचे तो कोलार थाना में पदस्त एस आई मनोज रावत अपने सह कर्मियों के साथ मिलकर इनकी गाड़ी को रोकवा कर इनसे बदसलूकी करने लगे और उनकी गाड़ी को सील करवा देने की धमकी देने लगे जबकि इन्होंने पुलिस कर्मियों को बताया था कि उनके पास ई पास है और वह सरकार के द्वारा जारी सारे निर्देशो के अनुसार ही कार्य कर रहे है उसके बाद भी पुलिस कर्मियों ने इनसे काफी बदसलूकी की और इनसे किसी कागज पर जबरदस्ती हस्ताक्षर करवाया गया और पढ़ने का भी समय नही दिया। पूछने पर कहने लगे कि आपकी संपत्ति हमारे नाम नही करवा रहे है । उसके बाद बाद उन्हें वहां से भगा दिया गया

जिसके बाद से ही पीड़ित काफी हताश है और उन्होंने अपने साथ हुई इस बदसलूकी की घटना को खुद सोशल मीडिया प्लेटफार्म यूट्यूब पर अपनी आपबीती बताते हुए डाली है और इसके साथ ही पुलिस कमिश्नर व पुलिस अधीक्षक से इसकी लिखित शिकायत भी की है

Tags

8 Comments

  1. ऐसे पुलिस कर्मियों को तुरंत बर्खास्त किया जाना चाहिए क्योंकि जो सुरक्षा एजेंसी है संस्थाएं हैं वह एक अपना कार्य कर रही है और जो ई पास भी है उनके पास गवर्नमेंट उनको ऑलरेडी पास देर हो चुका है तो उनको ऐसा व्यवहार नहीं करना चाहिए यह मामला तुरंत संज्ञान में लेना चाहिए और ऐसे पुलिसकर्मियों को तुरंत बर्खास्त किया जाए

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button