मध्यप्रदेश

यहां तालीम के लिए बच्चों को लगानी पड़ती है जान की बाजी..

मध्यप्रदेश के आदिवासी बाहुल्य मंडला जिले के दर्जनों ग्रामों में तालीम हासिल करने के लिये नौनिहालों को इन दिनों रोज जान की बाजी लगानी पड़ती है. ताजा मामला प्रधानमंत्री सांसद आदर्श ग्राम योजना के तहत मंडला सांसद व केंद्रीय स्वास्थ्य राज्यमंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते द्वारा गोद लिये बैगा आदिवासी बाहुल्य कापा गांव का है.

यहां बच्चों को स्कूल तक पहुंचने के लिये जान जोखिम में डालकर उफनती नर्मदा नदी को डोंगी से पार करना पड़ता है.

हैरत की बात तो यह है कि डोंगी से उफनदी नदी पार करने वाले बच्चों को अच्छे से तैरना भी नहीं आता है. पढ़ लिखकर कुछ बनने की चाह में वे जान की बाजी लगाकर खुद डोंगी चलाते हुये स्कूल पहुँचते हैं.

कुछ साल पहले इसी जगह पर डोंगी पलटने से दो स्कूली बच्चों समेत एक महिला की मौत हो चुकी है, लेकिन प्रशासन ने इस हादसे से भी कोई सबक नहीं लिया है. जब हमने इस मामले में जिले के हुक्मरानों से बात की तो समस्या का समाधान करने की बजाय साहब उल्टे बच्चों को स्कूल न जाने की नसीहत देते नजर आ रहे हैं. मंडला विधायक संजीव उइके ने गंभीरता से लेते हुये इस मामले को विधानसभा में उठाने की बात कही है.

Tags
Back to top button