मणिपुर आतंकी हमलाः शहीद हुए जवानों के शव देर रात इम्फाल लाए गए

JNIMS में होगा पोस्टमॉर्टम

नई दिल्‍ली. मणिपुर (Manipur) में शनिवार को जिस तरह से आतंकी हमले (Terrorist Attack) को अंजाम दिया गया, उसने पूरे देश को हिलाकर रख दिया है. इस आतंकी हमले को मणिपुर के इतिहास का सबसे घातक आतंकी हमला कहा जा रहा है. हमले में एक कर्नल (Colonel) और चार जवान (Soldiers) शहीद हो गए जबकि कर्नल की पत्‍नी और बच्‍चे ने मौके पर ही दम तोड़ दिया. हमले की जिम्‍मेदारी मणिपुर नागा पीपुल्स फ्रंट (MNPF) ने ले ली है. बता दें कि आतंकी हमले को देखते हुए एक नोट जारी कर सुरक्षाबलों को ऐसे इलाकों में अपने परिवार के साथ न जाने की सलाह दी गई है. इस आतंकी हमले को जिस तरह से अंजाम दिया गया है उसे देखने के बाद अंदाजा लगाया जा सकता है कि ये एक तय रणनीति के तहत किया गया हमला था और इसका उद्देश्‍य केवल भारी नुकसान पहुंचाना था.

जानकारी के मुताबिक ये आतंकी हमला चुराचांदपुर जिले के सिंघट में हुई जो म्‍यांमार बॉर्डर से लगा हुआ है. इस इलाके में उग्रवादियों ने असम राइफल्‍स के काफिले पर घात लगाकर उस समय हमला किया, जब 46 असम राइफल्स के कमांडिंग ऑफिसर फॉरवर्ड कैंप से वापस बटालियन मुख्यालय लौट रहे थे. आतंकियों ने जिस समय IED ब्‍लास्‍ट किया उस उस समय कर्नल त्रिपाठी की पत्‍नी और बेटा भी काफिले के साथ थे. ऐसी जानकारी मिली है कि उग्रवादियों ने पहले IED ब्लास्ट किया, उसके बाद काफिले पर फायरिंग कर दी. सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक जवाबी फायरिंग में हमलावर उग्रवादियों के भी घायल होने की खबर है. इस हमले में असम राइफल्‍स के चार जवान घायल भी हुए हैं, जिनका अस्‍पताल में इलाज किया जा रहा है.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button