मण्णपुरम गोल्ड बैंक डकैती मामला, पकड़ में आया मुख्य अभियुक्त

12 किलो 800 ग्राम सोने में मात्र एक किलो सोने की बरामदगी

ऋषिकेश मुकर्जी :
रायगढ़ :

बीते बरस सबसे बड़े क्राईम के रुप में पहचान दर्ज करने वाले अपराध मण्णपुरम गोल्ड लोन बैंक डकैती मामले में सरगुजा पुलिस को डकैतों का सरगना मिल गया है, सरगना को मिलाकर तीन आरोपी और पाँच सोनार अब तक पकड़ा चुके हैं, लेकिन जो बारह किलो 800 ग्राम सोना लूटा गया था उसमें से अब तक कुल जमा एक किलो सोना ही रिकव्हर हो पाया है।

दरअसल आरोपियों ने सोने को सर्राफ़ा व्यापारियों को दिया और बदले में नक़दी ले ली और उससे संपत्ति ख़रीद ली, इधर सोना ख़रीदने वाले व्यापारियों ने इसे गलाकर नए आभूषण बनाकर विक्रय कर दिया। नतीजतन पुलिस के हाथ सोना उतनी मात्रा में नही मिल पा रहा जितनी मात्रा में लूटा गया।

सरगुजा पुलिस ने हाल ही में प्रकरण के सूत्रधार और प्रमुख आरोपी अजय चेरो उर्फ़ गुरु को बिहार से पकड़ा है।इस पर दस हजार का ईनाम घोषित था।

अजय चेरो पर डकैती के कई मामलों दर्ज हैं, और वह अंबिकापुर की घटना कारित करने के पहले पश्चिम बंगाल के दुर्गापुर में मुत्थू फ़ायनेंस से 24 किलोग्राम और आरा के मणिप्पुरम गोल्ड लोन बैंक से 12 किलोग्राम सोने की डकैती डाल चुका था।

पुलिस को इस मामले में अन्य आरोपी की तलाश है, मुख्य आरोपी अजय चेरो के अनुसार इस फ़रार आरोपी के पास गलाया हुआ तीन किलो सोना है।

चुंकि बडी संख्या में सोना बेचकर गलाया जा चुका और बेच कर संपत्ति अर्जित की गई है तो पुलिस अब उन संपत्तियाँ को जप्त कर रही है। पुलिस ने मुख्य आरोपी के क़ब्ज़े और स्वामित्व वाली पिकप वाहन डीजे साउंड सिस्टम एक मोटरसाइकिल की जप्ती की है। वहीं सोना चाँदी व्यवसायियों से 521 ग्राम सोना जप्त किया गया है।

Back to top button