राजस्‍थान में मानवेन्द्र सिंह ने बनाई BJP से दूरी, कहा-कमल का फूल, मेरी भूल

जयपुर : बीजेपी के विधायक और बीजेपी के दिग्गज नेता रहे जसवंत सिंह के बेटे मानवेंद्र सिंह ने शनिवार को बड़ा बयान दिया है. दरअसल, उन्होंने बाड़मेर के पचपदरा में स्वाभिमान रैली की. इस रैली में उन्होंने बीजेपी से खुली बगावत का एलान कर दिया. मानवेंद्र सिंह ने मंच से एलान किया- ‘हमारी एक ही भूल, कमल का फूल.’

साफ है कि अब बीजेपी और मानवेंद्र का रास्ता अलग हो गया है. मानवेंद्र सिंह वैसे तो वसुंधरा राजे से तब से नाराज चल रहे थे जब से उनके पिता जसवंत सिंह का टिकट बाड़मेर लोकसभा सीट से काटा गया था. लेकिन चुनाव से दो महीने पहले इस तरह से राजपूतों की रैली कर मानवेंद्र के बीजेपी विरोध के एलान से बीजेपी के लिए बाड़मेर में संकट खड़ा हो गया है.

स्वाभिमान रैली में बोलते हुए मानवेंद्र सिंह की पत्नी चित्रा सिंह ने कहा कि हमें इस रैली से वसुंधरा राजे तक यह आवाज पहुंचा देनी है कि अब वह महज दो महीने के लिए राजस्थान के मुख्यमंत्री हैं. मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे को आने वाले विधानसभा चुनाव में सत्ता से उखाड़ फेंकना है.

पचपदरा रैली में सभी वक्ताओं ने वसुंधरा सरकार पर प्रहार किया. रैली में जिस तरह से भीड़ जुटी थी वह बीजेपी के लिए ठीक संकेत नहीं है. इस रैली में भावुक अपील की गई कि जसवंत सिंह के जो हालात बने हैं उसके लिए कहीं न कहीं मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे जिम्मेदार हैं और हमें इसका बदला लेना है.

माना जा रहा है कि मानवेंद्र सिंह कांग्रेस का हाथ थाम लेंगे, लेकिन इस सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि जनता जो कहेगी वह करेंगे. जनता के इरादों और भावनाओं के साथ चलेंगे. अभी तक मानवेंद्र सिंह खुलकर बीजेपी के खिलाफ नहीं बोल रहे थे और कह रहे थे कि स्वाभिमान रैली में अपना पक्ष साफ करेंगे. लेकिन आज साफ साफ कर दिया है कि बीजेपी के साथ नहीं है और वसुंधरा राजे सरकार को उखाड़ फेंकने के लिए काम करेंगे यानी अब मानवेंद्र सिंह कांग्रेस का हाथ थाम सकते हैं. हालांकि कांग्रेस के नेता इस मामले पर बड़े सधे हुए स्वर में बोल रहे हैं. उनका कहना है कि जो भी कांग्रेस की विचारधारा के साथ आना चाहेगा, उसका हम स्वागत करेंगे.

Back to top button