Uncategorized

राखी एक और मनाने के तरीके अनेक

रक्षाबंधन का त्योहार श्रावण पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है

भारत त्योहारों का देश है । यहाँ विभिन्न प्रकार के त्योहार मनाए जाते हैं । हर त्योहार अपना विशेष महत्त्व रखता है । रक्षाबंधन भाई-बहन के प्रेम का प्रतीक त्योहार है । यह भारत की गुरु-शिष्य परंपरा का प्रतीक त्योहार भी है । यह दान के महत्त्व को प्रतिष्ठित करने वाला पावन त्योहार है ।

रक्षाबंधन का त्योहार श्रावण पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है । श्रावण मास में ऋषिगण आश्रम में रहकर अध्ययन और यज्ञ करते थे । श्रावण-पूर्णिमा को मासिक यज्ञ की पूर्णाहुति होती थी । यज्ञ की समाप्ति पर यजमानों और शिष्यों को रक्षा-सूत्र बाँधने की प्रथा थी ।

इसलिए इसका नाम रक्षा-बंधन प्रचलित हुआ । इसी परंपरा का निर्वाह करते हुए ब्राह्मण आज भी अपने यजमानों को रक्षा-सूत्र बाँधते हैं । बाद में इसी रक्षा-सूत्र को राखी कहा जाने लगा।

वहीं सभी प्रदेशों में राखी के त्योहार मनाने का तरीका अलग-अलग है…………………आइए जानते है………..

मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और उत्तरप्रदेश

मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और उत्तरप्रदेश के कुछ स्थानों में यह दिन कजरी पूर्णिमा के नाम से मनाया जाता है। पूर्णिमा के दिन माएं जौ को सिर पर रख यात्रा निकालती हैं और तालाब या नदी में इसका विसर्जन किया जाता है।

महाराष्ट्र

महाराष्ट्र में राखी के साथ नारळी पूर्णिमा भी मनाई जाती है। राज्य के कोली समुदाय द्वारा समुद्र देवता को नारियल अर्पित किए जाते हैं। इसी के साथ मछली पकड़ने की शुरुआत भी होती है।

गुजरात

गुजरात में इस दिन शिव भगवान की पूजा की जाती है जिसे पवित्रोपना त्योहार कहा जाता है।

उड़ीसा

उड़ीसा में इसे गम्हा पूर्णिमा के रूप में मनाया जाता है जिसमें घरेलू गाय-बैलों को सजाकर उनकी पूजा की जाती है।

तमिलनाडु, केरल, आंध्रप्रदेश

तमिलनाडु, केरल, आंध्रप्रदेश क्षेत्र में यह दिन अवनी अवित्तम और उपाकर्म के रूप में मनाया जाता है। यह दिन वैदिक पाठ शुरु करने के लिए उत्तम माना जाता है।

नेपाल

नेपाल में राखी जनै पूर्णिमा के नाम से मनाई जाती है। इस दिन नेवार समुदाय के लोग मेंढ़कों को खाना देते हैं। मान्यताओं के अनुसार उन्हें वर्षा देवता का संदेशवाहक माना जाता है।

उत्तराखंड

उत्तराखंड के चंपावत जिले के देवीधुरा गांव में हर साल राखी पर ‘बग्वाल’ मेले का अायोजन किया जाता है। वाराही देवी मंदिर के प्रांगण में स्थानीय जनजातियों द्वारा पत्थरों से युद्ध खेला जाता है।

Tags
Back to top button