कोरोना के खिलाफ लड़ाई लड़ने में अमेरिका से भारत आए कई मेडिकल उपकरण

अमेरिका प्रशासन भी कोरोना को लेकर भारत के साथ 24 घंटे संपर्क में

नई दिल्ली:कोरोना महाविस्फोट से जूझ रहे भारत की मदद करने के लिए दुनियाभर के कई देशों ने हाथ बढ़ाया है। बेइज्जती के बाद जागा अमेरिका प्रशासन भी कोरोना को लेकर भारत के साथ 24 घंटे संपर्क में है।

अमेरिका से दो ट्रांसपोर्ट विमान ऑक्सिजन सिलिंडर/रेग्युलेटर, रैपिड डायग्नोस्टिक किट, N95 मास्क और पल्स ऑग्जीमीटर लेकर रवाना भी हो चुके हैं। इन विमानों के आज यानी शुक्रवार को भारत पहुंचने की उम्मीद है।

सीएनएन की रिपोर्ट के अनुसार, यूएस एजेंसी फॉर इंटरनेशनल डेवलपमेंट (यूएसएआईडी) ने बताया है कि बाइडन प्रशासन कोरोना का कहर झेल रहे भारत के साथ उनकी प्राथमिकताओं पर नॉनस्टॉप सलाह दे रहा है।

कोरोना को लेकर यूएसएआईडी के वरिष्ठ सलाहकार समन्वयक जेरेमी कोनडायक ने बताया कि भारत को की जा रही आपूर्ति रवाना हो चुकी है और इससे दोनों देशों के बीच एक बहुत ही करीबी समन्यवय भी स्थापित हुआ है।

अमेरिका की वायुसेना का विमान C-5M सुपरगैलेक्सी और C-17 ग्लोबमास्टर III विमान कैलिफोर्निया में ट्रैविस एयर फोर्स बेस से रवाना हो चुके हैं। जबकि, आज एक और जहाज ट्रैविस एयर फोर्स बेस से तीसरा शिपमेंट लेकर भारत के लिए रवाना होने वाला है। इस जहाज में पीपीई, ऑक्सीजन, टेस्ट किट, मास्क के साथ कई अन्य मेडिकल इक्यूपमेंट्स लदे होंगे।

पिछले हफ्ते ही अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से टेलीफोन पर बातचीत कर मदद का भरोसा दिलाया था। बाइडन ने कहा था कि भारत जरूरत के वक्त अमेरिकी लोगों के साथ था और भारत में अब तक के सबसे बुरे जन स्वास्थ्य संकट के समय अमेरिका उसके साथ खड़ा रहेगा।

वाइट हाउस ने बाद में जारी एक बयान में बताया था कि वे भारत को दवाईयां, वेंटिलेटर तथा कोविशील्ड टीके के निर्माता के लिए आवश्यक कच्चा माल सहित अन्य संसाधनों को मुहैया कराने जा रहे हैं।

USAID के जेरेमी कोनडायक ने बताया कि भारत सरकार ने कहा है कि यूएसएआईडी भारतीय रेड क्रॉस के माध्यम से आपूर्ति वितरित करने के लिए काम करता है इसलिए हम मुख्य रूप से उस चैनल के माध्यम से काम करेंगे।

उन्होंने यह भी कहा कि इस आपूर्ति के अलावा वे निजी क्षेत्र की साझेदारी के माध्यम से भारत में अस्पतालों और चिकित्सा सुविधाओं को कुछ प्रत्यक्ष सहायता प्रदान कर रहे हैं और साथ ही कई एनजीओ को अतिरिक्त सहायता दे रहे हैं।

यूएसएड ने अपने बयान में बताया कि जो दो जहाज भारत के लिए रवाना हुए हैं, उनमें कैलिफोर्निया राज्य द्वारा दान किया गया 440 ऑक्सीजन सिलेंडर भी लगा हुआ है। इसके अलावा सामुदायिक संक्रमण को रोकने में मदद करने वाले 960,000 रैपिड डायग्नोस्टिक टेस्ट और 100,000 एन 95 मास्क शामिल हैं।

दरअसल कैलिफोर्निया ने अमेरिका की संघीय सरकार को बताया था कि उनके पास ये सामान बहुत अधिक मात्रा में उपलब्ध हैं। क्या यह भारत के लिए उपयोगी हो सकते हैं? जिसके बाद वहां से भारत के लिए ये सामान रवाना किए गए।

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button