बच्चियों के दुष्कर्मी को फांसी दिए जाने की पहल शुरू करने कई संगठनों ने जताया हर्षिता का आभार

छत्तीसगढ़ राज्य महिला आयोग ने पहले ही थी सिफारिश

बिलासपुर: पॉक्सो एक्ट में बारह साल से कम उम्र की बच्चियों से दुष्कर्म के आरोपी को फांसी की सजा दिए जाने के प्रस्ताव को मंजूरी दिए जाने का स्वागत करते हुए छत्तीसगढ़ राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष हर्षिता पांडेय समेत अनेक सामाजिक संगठनों ने मील का पत्थर बताया।

हर्षिता पांडेय ने कहा कि पॉक्सो एक्ट में संशोधन कर मृत्युदंड का प्रावधान करना केंद्र सरकार की अच्छी पहलकदमी है। उन्होंने इसके लिए छत्तीसगढ़ की एक करोड़ अधिक महिलाओं की ओर से प्रधानमंत्री एवं मुख्यमंत्री को साधुवाद दिया है। उन्होंने कहा कि इस पूरे फैसले का महिलाओं के विरूद्ध यौन अपराध विशेषकर बच्चिायों के साथ किए जाने वाले दुष्कर्म में मुत्युदंड का प्रावधान से अपराध में नियंत्रण होगा।

बता दें कि छत्तीसगढ़ राज्य महिला आयोग की अध्यक्ष हर्षिता पांडेय की पहल पर छत्तीसगढ़ राज्य महिला आयोग ने संशोधिन लागू होने के 21 दिन पहले छत्तीसगढ़ शासन के मुख्य सचिव को लैगिंक अपराध से बच्चों के संरक्षण अधिनियम 2012 एवं भारतीय दंड सहिता 1860 में आवश्यक संशोधन पत्र भेजा गया था। जिसमें 12 वर्ष से कम उम्र की लड़कियों बच्चों के साथ दुष्कर्म के दोषी को मृत्युदण्ड की अनुशंसा की सिफारिश की गई थी। छत्तीसगढ़ राज्य महिला आयोग की इस पहल के लिए महिलाओं ने हर्षिता पांडेय सहित प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आभार जताया है। आभार जताते वालों में आरती पांडेय, कतिता पुजार, सुरेखा दीक्षित, निशा बेन खानाबार, भाविका कक्कर, ज्योति अग्रवाल, सिमरन पुजारा आदि शामिल हैं।

Back to top button