दुबई को हरिद्वार से निर्यात की गई करी पत्ता, भिंडी, नाशपाती और करेला समेत कई सब्जियां

उत्तराखंड में उगाए गए बाजरा की एक खेप को मई 2021 में डेनमार्क को निर्यात किया गया था

नई दिल्ली:उत्तराखंड सरकार जैविक खेती की सहायता करती रही है. एक अनूठी पहल के जरिये उत्तराखंड कृषि उत्पाद विपणन बोर्ड (यूकेएपीएमबी) जैविक प्रमाणन के लिए हजारों किसानों की सहायता करता रहा है. ये किसान मुख्य रूप से रागी, झिंगोरा, चौलाई आदि जैसे मोटे अनाजों का उत्पादन करते हैं.

उत्तराखंड में उगाए गए बाजरा की एक खेप को मई 2021 में डेनमार्क को निर्यात किया गया था. अब उत्तराखंड के किसानों और कृषि उत्पादों को बढ़ावा देने के लिए हरिद्वार से करी पत्ता, भिंडी, नाशपाती और करेला समेत कई सब्जियां संयुक्त अरब अमीरात (UAE) के दुबई को निर्यात की गई हैं.

सरकारी आंकड़ों के मुताबिक 2019-20 में 10114 करोड़ रुपये के बराबर के निर्यात की तुलना में 2020-21 में भारत ने 11019 करोड़ रुपये के बराबर के फलों एवं सब्जियों का निर्यात किया, जो करीब 9 फीसदी की बढ़तरी है.

कृषि और प्रसंस्कृत खाद्य उत्पाद निर्यात विकास प्राधिकरण (APEDA) उत्तराखंड में एक पैक हाउस स्थापित करने के लिए वित्तीय सहायता प्रदान करने की योजना बना रहा है. जो अंतरराष्ट्रीय बाजार में ताजे फल और सब्जियों के निर्यात के लिए बुनियादी ढांचे की जरूरत को पूरा करेगा.

Tags

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Back to top button