“मराठा” आरक्षण का बिल पास, स्वागत योग्य कदम : रिजवी

रायपुर।

जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ (जे) के मीडिया प्रमुख एवं वरिष्ठ अधिवक्ता इकबाल अहमद रिजवी ने कहा है कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस ने विधानसभा एवं विधान परिषद में मराठा आरक्षण का बिल पास करवाकर निश्चय ही स्वागत योग्य कदम उठाया है।

किन्तु क्वचित वह भूल गये है कि जब वे मुख्यमंत्री बने थे तब उन्ही के द्वारा मराठा आरक्षण को निरस्त किया गया था साथ ही मुस्लिमो को भी प्राप्त 5 प्रतिशत आरक्षण भी रद्द कर दिया था। अब जब कि उन्होंने मराठा आरक्षण का बिल प्रस्तुत किया जिस पर राज्यपाल महोदय की मुहर भी लग गयी है तो उसी तारतम्य में मुसलमानो का निरस्तीकृृत आरक्षण भी बहाल कर दिया जाता तो उनका मराठा आरक्षण बिल स्वागत योग्य होने के साथ-साथ श्लाघनीय भी हो जाता क्योकि मुस्लिम समुदाय भी देश का पिछड़ा समुदाय है जो आर्थिक, समाजिक एवं शैक्षणिक क्षेत्र में अति पिछड़ा वर्ग की श्रेणी में आता है।

रिजवी ने कहा है कि मुस्लिमों के पिछडे़पन पर चिंतित शिवसेना द्वारा मुस्लिम आरक्षण की मांग को जायज ठहराते हुए दिये गये समर्थन से मुस्लिम वर्ग उनका शुक्रगुजार हुआ है।

इस मांग के समर्थन से शिवसेना ने धर्म निरपेक्षता का परिचय भी दे दिया है जो अन्य सम्प्रदायिक दलो एवं संगठनो के लिए सटीक जवाब है। उन्होंने मुख्यमंत्री फडणवीस से मुस्लिम आरक्षण को मुर्त रूप देने की दिशा में शीघ्र ही एक अध्यादेश विधानसभा में पेश करने की मांग की है क्योकि पिछड़ा वर्ग में मुस्लिम समाज भी वर्तमान परिस्थितियों के अनुरूप आरक्षण का अधिकारी है।

Back to top button